भारतीय सर्जन ने 3D प्रिंटर तकनीक से बनाया नया जबड़ा!

ब्रिटेन में रह रहे भारतीय मूल के एक सर्जन ने 3d प्रिंटर का इस्तेमाल करते हुए, केंसर से पीड़ित मरीज स्टीफन वाटरहाउस 53 वर्षीय के जबड़ो को फिर से बनाकर सफलता हासिल की है, वेस्ट मिडलैंड्स की रॉयल स्टॉक यूनिवर्सिटी  हॉस्पिटल के डॉ, दया गहिर  गर्दन, सिर चहरे की सर्जरी के लिए माहिर है, हर साल के आंकड़ो को देखे तो 40 मरीजो के अंगो को नया रूप दे देते है, पिछले साल ही उनके हॉस्पिटल में एक सॉफ्टवेर के निर्माण में सफलता हासिल किया, जिसके माध्यम से अंगो को फिर से काम में लाने तथा प्रभावी व आसान बनाने के लिए 1.50,000 पोंड के 3d प्रिंटर का इस्तेमाल किया जा सके. 

गहिर ने "स्ट्रोक स्टेलिन" अख़बार में ये कहा कि"हम साल में सर गर्दन के संबंथित करीब 40 सर्जरी की जाती है, 10 से 15 ऐसे मामले होते है जहाँ इस तरह के प्रिंटर का इस्तेमाल किया जाता है, डॉ. गहिर के मुताबिक मरीज के पैर से थोड़ी हड्डी निकल कर उसे जबड़े का आकर दे दिया गया,  उसके बाद पैर से भी थोड़ा मांस का टुकड़ा कटा गया तथा उसे गले में लगाया गया, रॉयल स्ट्रोक यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल ब्रिटेन में यह एक मात्र इस हॉस्पिटल है जहाँ पर इस तरह की सर्जरी की जाती है, 

इस सर्जरी में 12 घंटे का समय लगा, कैंसर से पीड़ित हुए स्टीफेन वाटरहाउस की कुछ साल पहले रेडियो थैरेपी की गयी, जिससे उनका जबड़ा टूट गया था, उन्हें गले का कैंसर था पैर की हड्डी निकल कर उसे जबड़े का आकर दिया गया,   

आपका अनुभव शेयर करे हमारे साथ , कमेंट करे निचे दिये बॉक्स में और निचे दी हुई अन्य स्टोरी भी पढ़े.

Idea देगी घरेलू रोमिंग पर फ्री इनकमिंग कॉल

B'day Special: अब तो हर घर में मिल जायेंगे, एक से बढ़कर एक आइंस्टीन

Google ने डाटा साइंस कम्यूनिटी कैगल को खरीदा

वाहन चोरी करने वाले दो इंजिनीयरिंग छात्र सहित तीन कबाड़ी गिरफ्तार, बरामद हुई 6 बाइक

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -