भारत के लिए बड़ी चुनौती, 800 मिलियन लोगों को लगाना होगा कोरोना का टीका

दुनिया में कोविड-19 टीकों का सबसे बड़ा खरीदार भारतीय उपमहाद्वीप है। 1.6 मिलियन संख्या है जो कुछ वैज्ञानिकों का कहना है कि '800 मिलियन लोगों को, या इसकी 60 प्रतिशत आबादी को कवर कर सकता है, और झुंड प्रतिरक्षा विकसित करने के लिए पर्याप्त होगा। अमेरिका स्थित ड्यूक यूनिवर्सिटी ग्लोबल हेल्थ इनोवेशन सेंटर ने एक आंकड़े का खुलासा किया है कि भारत ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के उम्मीदवार की 500 मिलियन, अमेरिकी कंपनी नोवाक्स से एक बिलियन और रूस के गामालेया रिसर्च इंस्टीट्यूट के स्पुतनिक उम्मीदवार की 100 मिलियन खुराक खरीदी है।

फिर भी 'द लॉन्च एंड स्केल स्पीडोमीटर' विश्लेषण की एक अन्य रिपोर्ट हर दो सप्ताह में अपडेट की गई, दिखाती है कि भारत ने 30 नवंबर तक तीन टीकों की 1.6 बिलियन खुराक की पुष्टि की है जबकि अमेरिका और यूरोपीय संघ ने छह उम्मीदवारों की खुराक खरीदी है। ड्यूक के शोधकर्ताओं ने अपने विश्लेषण में उल्लेख किया, "विनिर्माण क्षमता वाले देश, जैसे भारत और ब्राजील, अग्रणी टीकाकरण वाले उम्मीदवारों के साथ बड़े अग्रिम बाजार प्रतिबद्धताओं पर बातचीत करने में सफल रहे हैं।"

एक प्रसिद्ध विरोलॉजिस्ट शाहिद जमील ने कहा कि भारत के सभी टीके 'प्री-बुक' भारतीय कंपनियों ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका और नोवावैक्स द्वारा पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) और हैदराबाद में डॉ। रेड्डीज लैब द्वारा निर्मित हैं। जमील ने कहा, "हम उम्मीद कर सकते हैं कि 2021 में पहले 250 मिलियन का टीकाकरण किया जा सकेगा, शेष वर्षों में। समस्या वैक्सीन की खुराक की नहीं होगी, बल्कि उन्हें वितरित करने की क्षमता की होगी।" झुंड उन्मुक्ति विकसित करने के लिए, संक्रामक रोग से अप्रत्यक्ष संरक्षण का एक रूप है जो तब होता है जब आबादी का पर्याप्त प्रतिशत एक संक्रमण के लिए प्रतिरक्षा बन गया है।

आईसीआईसीआई बैंक ने लॉन्च किया इंटरऑपरेबल बैंकिंग ऐप

तेलंगाना कांग्रेस को बड़ा झटका, दिग्गज नेता गुडुर नारायण रेड्डी ने छोड़ी पार्टी

ससुराल में फ़ोन कर बोला- 'मैंने आपकी बेटी को मार डाला...' फिर लाश के पास बैठकर खेलने लगा गेम

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -