IIT जोधपुर के छात्रों ने बनाई फेस शील्ड, कोरोना से बचाव में करेगी मदद

 जोधपुर: भारत मे कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 2000 पार कर चुका है. कोरोना के खिलाफ जंग कर रहे देश के लाखों डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ आज PPE यानी पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट की किल्लत से जूझ रहे हैं. हर दिन बढ़ते कोरोना के मामलों के कारण डॉक्टरों और बाकी हॉस्पिटल स्टाफ के लिए पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट की डिमांड भी तेजी से बढ़ रही है.

देश में अब तक तक़रीबन 50 डॉक्टरों और नर्सिंग स्टाफ में कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं.  कई डॉक्टरों ने सुरक्षा उपकरणों की कमी होने पर भी चिंता जाहिर की है.  सुरक्षा उपकरणों की आवश्यकता को देखते हुए IIT जोधपुर की टीम ने 3D प्रिंट की फेस शील्ड बनाई है, जो डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों की कोरोना के संक्रमण से सुरक्षा कर सकती है. ये शील्ड खास 3D प्रिंटिंग तकनीक की मदद से तैयार की गई है, जिसमें ट्रांसपेरेंट प्रोटेक्टिव प्लास्टिक का उपयोग किया गया है. 

कोरोना के बढ़ते खतरे के बीच ये फेस शील्ड डॉक्टरों सहित सभी स्वास्थ्य कर्मियों के लिए सहायक साबित हो सकती है. IIT जोधपुर की ऑटोमेडटेड मेन्यूफैकचरिंग लैब में डॉ कौशल की टीम ने 2 दिन में 50 ऐसी फेस शील्ड बनाई है.  अन्य स्वास्थ्य उपकरणों की तरह इसे भी ट्रायल के लिए पहुंचा दिया गया है. टेस्टिंग के बाद स्वीकृति मिलने पर इस तरह की और फेस शील्ड तैयार की जा सकेगी, जिससे आने वाले वक़्त में कोरोना की चुनौती से लड़ने में बड़ी सहायता मिल सकती है.

रिलायंस को आन पड़ी पैसों की जरुरत, इस तरह करेगी 25 हज़ार करोड़ का बन्दोबस्त

लॉकडाउन : दिहाड़ी मजदूरों को मिल सकता है न्यूनतम वेतन, SC में दायर हुई याचिका

इस राज्य में तब्लीगी मरकज के 140 लोग निकले कोरोना पॉजीटिव

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -