कितना एवरेज देता है ट्रेन का डीजल इंजन ?

नई दिल्ली: विश्व के चौथे सबसे बड़े रेल नेटवर्क में से एक इंडियन रेलवे से हर दिन लाखों लोग सफर करते हैं. बता दें कि मौजूदा ट्रेनों को बिजली, डीजल और भाप के इंजन से संचालित किया जाता है. हालांकि मौजूदा वक़्त में चलने वाली ट्रेनों का प्रचलन न के बराबर है. वहीं डीजल से चलने वाली ट्रेनों की तादाद अधिक है. ऐसे में डीजल इंजन पर चलने वाली ट्रेनें क्या माइलेज देती है? यह सवाल सबके जेहन में उठता है, लेकिन इसके लिए सबसे पहले यह जानना आवश्यक है कि डीजल ट्रेन का टैंक कितने लीटर का है. 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, डीजल इंजन की क्षमता के हिसाब से टैंक को तीन श्रेणी 5,000 लीटर, 5,500 लीटर और 6,000 लीटर में विभाजित किया गया है. गाड़ी के लोड के मुताबिक ही डीजल इंजन में प्रति किलोमीटर का एवरेज निर्धारित होता है. बता दें कि डीजल इंजन का माइलेज कई चीजों पर निर्भर है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, 12 कोच वाली पैसेंजर ट्रेन 6 लीटर में एक किमी का माइलेज देती है. 24 कोच वाली एक्सप्रेस ट्रेन भी 6 लीटर में एक किमी और 12 डिब्बों वाली एक्सप्रेस ट्रेन का एवरेज 4.50 लीटर में एक किमी है. 

बता दें कि सामान्य ट्रेन सभी स्टेशन पर रुकती है. साथ ही उसमें ब्रेक और Accelerator का प्रयोग भी अधिक होता है. ऐसी स्थिति में सामान्य या पैसेंजर ट्रेन का एवरेज एक्सप्रेस ट्रेन की तुलना में कम हो जाता है. चूंकि एक्सप्रेस ट्रेन कम स्टेशनों पर रूकती है और उसमें ब्रेक और Accelerator का इस्तेमाल भी कम होता है, इसलिए उसका माइलेज अधिक होता है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अधिक लोड वाली मालगाड़ी का एवरेज भी कम होता है.

ठंड में है घूमने का प्लान तो ये 3 जगह है सबसे बेस्ट

नेशनल शूटर कोनिका की मौत को लेकर झारखंड सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला

अफगानिस्तान में तालिबान ने पाक सेना को अंतरराष्ट्रीय सीमा पर घेरा लगाने से रोका

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -