जीव में ही छुपा होता है मृत्यु का जीवन

इस पूरे ब्रह्माण्ड में यदि कुछ हैं जो निश्चित हैं तो वह मृत्यु होती हैं. जब कोई व्यक्ति मरता है तो वहां कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो अपने आप में बहुत गहरी होती है. आप अगर वहां बैठकर ध्यान करते हैं तो आपको बहुत कुछ पता चल सकता है. अगर मृत्यु वहां उपस्थित है और आप वहां खामोशी से बैठें हैं तो आप उसे जरूर महसूस कर पाएंगे क्योंकि मौत साँसे रोकता हुआ कोई व्यक्ति नहीं होता है.

जब भी कोई व्यक्ति मरता है तो कुछ समय बाद से ही उसकी आभा कम होनी शुरू हो जाती है.यदि आप उस वक़्त वहां खामोशी से हैं तो आप ऊर्जा शक्ति और ऊर्जा क्षेत्र को कम होकर केंद्र की ओर वापस जाते महसूस कर सकते हैं. 

जीवन, एक पेड़ की तरह होता हैं और मृत्यु उस पेड़ के एक फूल की भांति होती हैं. पेड़ का अस्तित्व फूल के लिए तथा फूल से ही होता है ना कि फूल का अस्तित्व पेड़ के लिए. पेड़ पर जब तक फूल नहीं आते हैं उसे केवल पेड़ ही कहा जाता हैं पर जब उस पर फूल आते हैं तो वो पेड़ गरिमायुक्त नज़र आने लगता हैं. उस समय उस पेड़ को खुशी से नाचना चाहिए क्योंकि फूल के आने के बाद उसके मुरझाने का वक़्त भी निर्धारित ही रहता हैं. 

घर में खुशी बनाए रखेंगे यह वास्तु टिप्स

दिलफेंक व्यक्ति की ये होती हैं निशानियां

राशि अनुसार जानिए कितना धनवान होगा आपका पति

अप्रैल के आखिरी सप्ताह में खुल सकती है इन राशियों की किस्मत

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -