सरकार ने वॉट्सऐप के इस फीचर को जोड़ने से किया इनकार

सरकार ने वॉट्सऐप के इस फीचर को जोड़ने से किया इनकार

भारत में सरकार के लिए मेसेजिंग प्लैटफॉर्म वॉट्सऐप पर फेक न्यूज और झूठी जानकारी का फैलने से रोकना बड़ी चुनौती बना हुआ है. प्लैटफॉर्म के बेहद पॉप्युलर होने के चलते इसका गलत इस्तेमाल करना आसान हो गया है और इसपर बहुत सी अफवाहें फैलाई जा रही हैं. वॉट्सऐप पर फैली अफवाहों के चलते लिचिंग के कई मामले भी भारत में सामने आ चुके हैं. वॉट्सऐप पर मेसेज एंड-टू-एंड एनक्रिप्टेड होने के चलते सेंडर और रिसीवर के अलावा कंपनी का कोई कर्मचारी भी उन्हें पढ़ नहीं सकता. ऐसे में कोई मेसेज ट्रैक करना बेहद मुश्किल हो जाता है. अब भारत सरकार ने वॉट्सऐप से एक खास फीचर लाने को कहा है लेकिन जरूरी नहीं है कि सभी यूजर्स को यह पसंद आए. आइए जानते हैं पूरी जानकारी विस्तार से 

इस दिन Samsung Galaxy Note 10 हो सकता है लॉन्च, ये होगी संभावित कीमत

भारत सरकार चाहती है कि वॉट्सऐप ऐसा फीचर अपने ऐप में ऐड करे, जिसकी मदद से सभी वॉट्सऐप मेसेजेस को 'डिजिटली फिंगरप्रिंट' किया जा सके. इससे मेसेज में क्या लिखा गया है, इसका पता तो नहीं चल सकेगा लेकिन हर मेसेज को एक पहचान मिल जाएगी.सरकार चाहती है कि वॉट्सऐप में यह फीचर लाया जाएगा क्योंकि इसकी मदद से वॉट्सऐप पर भेजे गए मेसेजेस को ट्रैक किया जा सकेगा. इससे पता लगाया जा सकेगा कि कोई खास मेसेज सबसे पहले वॉट्सऐप पर किसने भेजा था या कब भेजा गया था.

आज Motorola One Vision होगा लॉन्च, उठेगा फीचर से पर्दा

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि नए फीचर की मदद से वॉट्सऐप सरकार को यह जानकारी दे सकेगा कि कोई मेसेज सबसे पहले किसने भेजा था और इस मेसेज को कितनी बार पढ़ा या फॉरवर्ड किया गया है. अच्छी बात यह है कि सरकार वॉट्सऐप से एंड-टू-एंड एनक्रिप्शन खत्म करने को नहीं कह रही है.सरकार बिना एनक्रिप्शन को खत्म किए इस नए फीचर को जोड़ने की बात वॉट्सऐप से कह रही है.

फ्लिपकार्ट सेल में इन लैपटॉप पर मिल रहा 21 हजार रुपये का डिस्काउंट

गेम्स के चाहने वालो के लिए लॉन्च हुआ ये हाई स्पीड SSD

भारतीय बहुत देख रहे वीडियो, इतना डेटा खर्च कर रहे हर ​महीने