B'day Special: कुछ ऐसे है कला को अपना जीवन देने वाले गिरीश करनाड

रंगकर्म हो या बॉलीवुड हो, क्षेत्रीय फ़िल्में हो या लेखन हो, निर्देशन हो स्केचिंग हो, एक शख्स जो कला की हर विधा में कुछ ऐसा रम गया की उसी का हो गया. ऐसी ही शक्सियत का नाम गिरीश करनाड जिन्होंने अपनी कला के क्षेत्र में जो मुकाम पाया है जो शायद ही किसी ने पाया हो, अपने अभिनय से हर किसी के दिल में जगह बनाने वाले गिरीश करनाड का जन्म 19 मई, 1938 को महाराष्ट्र के माथेरान में हुआ था. 

बचपन से ही नाटकों और रंगमंच में रूचि रखने वाले गिरीश करनाड ने रंगमंच में कई नाटक लिखे जिसमें ऐतिहासिक नाटक 'तुगलक' भी शामिल है साथ ही  'ययाति','हयवदन', 'अंजु मल्लिगे', 'अग्निमतु माले', 'नागमंडल' और 'अग्नि और बरखा' काफी पॉपुलर हुए जो अभी तक रंगमंच की दुनिया की शान बने हुए है. 

नाटकों के साथ ही गिरीश करनाड ने कई फिल्मों के लेखन का काम किया साथ ही कई फिल्मों में अपने अभिनय की छाप भी छोड़ी जो बरसों याद रखी जाएगी. गिरीश करनाड ने लेखक के तौर पर अपने करियर की शुरुआत 1970 में कन्नड़ फ़िल्म 'संस्कार' से की, उसके बाद ही उन्होंने कई फिल्मों में अभिनय भी किया जिसमें निशांत, मंथन, पुकार,एक था टाइगर और टाइगर ज़िंदा है शामिल है.  साथ ही गिरीश करनाड ने छोटे परदे पर भी कई कार्यक्रम और 'सुराजनामा' जैसे सीरियल्‍स में काम किया है. करनाड संगीत नाटक अकादमी के अध्यक्ष भी रह चुके हैं. कई अवार्ड्स पा चुके गिरीश करनाड का भारतीय कला को दिया योगदान अमूल्य है जो कभी न भुला जाएगा.

'दबंग 3' का रणबीर कपूर की इस फिल्म से होगा महाक्लैश

रेस 3 एक्ट्रेस डेज़ी शाह ने किया बड़ा खुलासा

71वें कान्स फिल्म फेस्टिवल में श्रीदेवी को किया गया सम्मानित

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -