शुरुआती करियर से लेकर लव लाइफ तक...आसान नहीं था धोनी का सफर

टीम इंडिया के जाने माने पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को दुनियाभर में ऐसा कोई भी नहीं है जो जानता न हो, बीते एक दशक से महेंद्र सिंह धोनी इंडिया ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में सबसे अधिक प्रेम मिला है।  एम एस धोनी के नाम से पहचाने जाने वाले महेंद्र सिंह ने क्रिकेट जगत के इतिहास में भारत का नाम रोशन करने के साथ ही साथ अपनी भी एक अलग छाप छोड़ी है।

धोनी इंडियन टीम के पूर्व कप्तान भी रह चुकें हैं, कुछ समय पहले तक यानी जब उन्होंने अपने सन्यास की घोषणा नहीं की थी तब तक वह टीम इंडिया के खिलाड़ी के रूप में भी एक्टिव थे। एक मामूली से शहर से बाहर आकर अपने नाम महान क्रिकेटर का खिताब करने वाले महेंद्र सिंह धोनी ने अपने जीवन काल में बहुत सारी परेशानियों का सामना किया है, इतना ही नहीं इन संघर्ष भरे दौर से गुजरने के बाद वह आज इस मुकाम पर आए है। एवं जिसके बाद उन्हें ये अलग पहचान हासिल हुई है। सबसे खास बात तो यह है कि धोनी केवल अपने खेल के कारण नहीं बल्कि अपने अच्छे व्यवहार के कारण अपने फैंस के दिलों पर आज भी राज कर रहे है। इस बात में कोई भी शक नहीं है कि 39 वर्ष के धोनी जब कभी भी मैदान पर खेलने के लिए आते थे तो पूरा का पूरा स्टेडियम खड़ा होकर उनका नाम धोनी-धोनी कहकर पुकारने लगता था।

ऐसा था महेंद्र सिंह धोनी का शुरूआती जीवन: यह बात तो शायद ही बहुत कम लोगों को पता होगी कि धोनी का क्रिकेटर की पोस्ट यानी उनके करियर की शुरूआती दौर बहुत ही परेशानियों से भरे हुए थे, आज उनका ये सफर जितना आसान दिखता है असल में उतना आसान नहीं था। जी हां क्रिकेट के प्रति सच्चा प्रेम और लगन के डीएम पर उन्होंने ये मुकाम हासिल किया है, जिसके बाद वह आज भारत के कई दिग्गज खिलाड़ियों की सूचीं में शामिल हो पाए है, हम बता दें कि जब माही को टीम इंडिया का कप्तान चुना गया था तब भी उन्होंने अपने इस काम को बखूबी निभा कर अपने फैंस को खुश कर दिया था। क्या आप जानते है कि अपने विद्यालय के दिनों में धोनी ने क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था, परन्तु उन्हें तब भी टीम इंडिया का हिस्सा बनने के लिए कई चुनौतियों से होकर गुजरना पड़ा। हां जब माही को भारतीय टीम की तरफ से खेलने के लिए अप्रोच किया गया था तब उन्होंने इस अवसर का भरपूर लाभ उठाया और स्वयं को टीम इंडिया की टीम में पंहुचा दिया। जिसके बाद जब भी उन्होंने कोई भी मैच खेला है तो उन्होंने कम से कम ओवरों में ही टीम इंडिया को अच्छे रन दिलवाएं है, या फिर जीत तक पंहुचा दिया है, हम बता दें कि वर्ष 2007 सितम्बर 11 से 4 जनवरी 2017 तक धोनी ने टीम इंडिया की कप्तानी की, जिसके बाद वह वर्ष 2008 से लेकर 2014 तक उन्होंने टेस्ट क्रिकेट टीम की कप्तानी निभाई। भारत के स्टाइलिश, साहसी और रोमांचक नेचर वाले धोनी आज एक पसंदीदा क्रिकेटर और मार्केटिंग आइकॉन बन गए है। आगे बता दें कि महेंद्र सिंह धोनी एक सफल आक्रामक दाएं हाथ के बल्लेबाज और विकेटकीपर हैं जिन्हें अपनी प्रतिभा पर थोड़ा भी घमंड नहीं हैं इसलिए वे भारत में चहेते क्रिकेटर भी हैं। इतना ही नहीं धोनी उन कप्तानों में से एक रहे है जिन्होंने अपने जूनियर क्रिकेट टीम को रैंकिंग में लाने के लिए नेशनल टीम का भी प्रतिनिधित्व किया था, साथ ही वह अपने फैंस के रोल मॉडल और पिन- अप स्टार भी है।

वहीँ यदि बात की जाए इंडियन ODI की तो उन्होंने वर्ष 2011 में दूसरे विश्व कप जीतने में इंडिया की मदद करने में अहम् भूमिका निर्वाह की, जिसके कारण वह चर्चाओं का पात्र भी बन गए और जगह - जगह लोग उनकी तारीफों के पुल बांधने लगे, वहीँ वर्ष 2004 दिसम्बर 23 में बांग्लादेश के विरुद्ध इंडियन ODI टीम के लिए अपना फर्स्ट मैच खेलने वाले धोनी ने उसके बाद वर्ष 2007 से 2016 तक इंडिया टीम के लिए  ODI मैच के लिए कप्तानी शुरू कर दी और सबके सामने अपनी प्रतिभा को लेकर आए। जहां वर्ष 2005 में श्रीलंका के विरुद्ध टेस्ट प्लेयर के रूप में अपना पहला मैच खेला था, जिसके बाद वह वर्ष 2008 से 2014  के बीच टेस्ट क्रिकेट टीम का भी नेतृत्व किया और तभी से धोनी को अपनी आक्रामक खेल शैली के लिए भी पहचाना जाता है। हम बता दें कि धोनी इंडिया के उन सफल कप्तानों में से एक है जिन्होंने अपनी टीम को जीतने के लिए दिन और रात दोनों को एक कर दिया था और उन्हें उस चीज में अच्छी खासी सफलता मि गई थी, जिसके साथ ही उनकी कप्तानी के लिए कई रिकॉर्ड भी शामिल है, जिसके कुछ समय के उपरांत यह पता चला कि धोनी की कप्तानी ने कभी भी अपनी टीम और फैंस को दुखी नहीं किया और तो और उन्हें कई मैचों में उन्होंने टीम को जीतकर देश का नाम रोशन किया।

कहा जाता है कि वर्ष 2007 में ICC WORLD 20 -20 और साल 2013 ICC चैंपियंस ट्रॉफी हासिल करने में भी धोनी ने टीम इंडिया का नेतृत्व किया, एवं IPL के मैचों में उनकी सारी काबिलियत हमेशा ही इंटरनेशनल रेकॉर्डों से ढकी हुई है, महेंद्र सिंह धोनी ने IPL में टीम चैन्नई सुपर किंग्स की सहायता के लिए 2010 अवं 2011 में भी दो बार जीत दिलादी। ने के दौरान भी महेंद्र सिंह धोनी ने भारतीय किक्रेट टीम का नेतृत्व किया था। आईपीएल मैच में भी उनकी उपलब्धियां अक्सर अपने अंतरराष्ट्रीय रिकॉर्ड से ढकी हुई हैं, उन्होंने अपनी आईपीएल टीम चेन्नई सुपर किंग्स की मदद से 2010 और 2011 में दो बार आईपीएल जीताया था। 

ये तो हो गई महेंद्र सिंह धोनी के करियर से जुड़ी सभी बातें तो चलिए अब जानते है उनकी लव लाइफ के बारें में....

इस बात में कोई भी शक नहीं है की एमएस धोनी के लिए 4 जुलाई का दिन उनके लिए खास क्यों है दरअसल इस दिन यानी 4 जुलाई 2010 में उन्होंने अपनी प्रेमिका साक्षी से शादी की थी। और अब उनकी शादी को 10 वर्ष पूरे हो चुके है, हमें इस बारें में जानकारी देने की आवशयकता नहीं है, क्यूंकि उनके सभी फैंस जानते है कि एमएस धोनी की लव मैरिज हुई थी, और इस कहानी का जिक्र उनकी बायोपिक एमएस धोनी द अनटोल्‍ड स्‍टोरी  में भी किया गया था। है पर कई बातें ऐसी भी है, जिनके बारें में शायद आप भी नहीं जानते होंगे, जोकि आज हम आपको बताने जा रहे है तो चलिए जानते है...

जी हां हम जो आज आपको बताने जा रहें हैं उस बारें में सुन कर शायद आप सभी चौक जाए, दरअसल आप सभी को ये पता होगा कि एमएस धोनी और साक्षी की मुलाकात एक होटल में हुई थी, लेकिन यह पूरा सच नहीं है, पूरा सच तो यह है कि एमएस धोनी और साक्षी दोनों की एक दूसरे को बचपन से ही जानते थे, लेकिन उस वक़्त उनके बीच प्यार जैसी कोई भी चीज नहीं थी, और उसके बाद एमएस धोनी और साक्षी दोनों ने अलग रास्ता चुन लिया, हमारा कहने का मतलब है कि वो दोनों की अपने करियर को बनाने के लिए अलग अलग शहरों में जाकर रहने लगे थे, और तो और दोनों को ही एक दूसरे के ठिकाने का भी कोई पता नहीं था। चौकाने वाली बात तो यह कि एमएस धोनी और साक्षी एक दूसरे को जानते इसलिए थे क्यूंकि धोनी के पिता एवं साक्षी के पिता दोनों ही एक कंपनी में काम किया करते थे, तो इस तरह से दोनों का आना जाना और मिलना जुलना लगा रहता था, आगे बता दें कि  एमएस धोनी और साक्षी एक  ही स्कूल में पढ़ते थे, लेकिन कुछ समय के उपरांत साक्षी अपने परिवार वालों के साथ उत्तराखंड में रहने के लिए चली गई थी एवं धोनी का परिवार रांची में ही रहें। वहीँ यदि बात की जाए उनके करियर में शुरू हुए संघर्ष की तो उन्होंने क्रिकेट और रेलवे की नौकरी के बीच उन्होंने कई उतार चढ़ाव देखे, वैसे तो आप सभी ने उनके जीवन के उतार चढ़ाव को उनकी फिल्म में हर किसी ने देख ही लिया होगा।

कहते है न कि जिनके नसीब में मिलना लिखा होता है, उसे चाहकर भी कोई नहीं बदल सकता है, और वे कभी न कभी मिल ही जाते है। एक बार फिर एमएस धोनी और साक्षी की किस्मत में मिलना लिखा ही था, जबकि वह दोनों कई कई वर्षों पहले एक दूसरे से अलग हो गए थे, वे दोबारा पश्चिम बंगाल के कोलकाता में मिले, जी दरअसल धोनी अपने मैच के चलते कोलकाता गए हुए थे, और साक्षी कोलकाता में स्थित होटल में  होटल मैनेजमेंट की इंटर्नशिप कर रही थी, दोनों की मुलाकात उसी होटल में फिर हुई, लेकिन जब एमएस धोनी ने साक्षी को वहां देखा तो उनके दिल में एक अजीब सी ही हलचल होना शुरू हो गई, और ये हलचल कुछ नहीं बल्कि उनके पहली नज़र वाले प्यार की थी। जिसके बाद ही धोनी ने होटल के मैनेजर से कहकर साक्षी का नंबर की हासिल कर लिया था। ठीक इसके बाद दोनों की आपस में बातें होने लगी और धीरे- धीरे दोनों की मुअलकात भी शुरू हो गई, दोनों एक दूसरे से प्यार करने लगे थे। जिसके उपरांत दोनों का प्यार और भी गहरा होता चला गया।

इतना ही नहीं वर्ष 2008 में धोनी और साक्षी ने एक दूसरे को डेट करना भी शुरू कर दिया था, धीरे- धीरे दोनों ने एक दूसरे से खुद के सुख- दुःख को भी शेयर करना शुरू कर दिया, जिसके उपरांत ही दोनों ने निर्णय किया की वह शादी कर लेंगे और ठीक 2 साल बाद यानी 4 जुलाई 2010 में दोनों ने एक दूसरे से शादी कर ली। 

हम बता दें कि धोनी और साक्षी की शादी उत्तराखंड की राजधानी देहरादून के एक फार्म हाउस में दोनों ने शादी समाहरोह का आयोजन किया था, लेकिन उन्होंने अपनी शादी में मीडिया को नहीं बुलाया था, शादी में बहुत ही खास लोग शामिल हुए थे। लेकिन यह बात तो लगभग आप सभी को पता होगी, पर अब हम जो बताने जा रहे है ये आप में से किसी ने भी नहीं सुनी होगी बीते कुछ समय पहले ही धोनी की पत्नी ने खुलासा करते हुए इंस्टाग्राम लाइव चाट के दौरान कहा था कि जनता यही जानती और कहती है कि मैं और माही  बचपन से दोस्त है , क्यूंकि हमारे परिवार वाले दोस्त थे, लेकिन हम दोनों में कम से कम 7 वर्ष का अंतर् है, और न ही हम एक दूसरे के दोस्त थे, जिसके साथ ही साक्षी ने यह भी कहा था कि शादी के बाद वह पहली बार 2010 में 7 जुलाई को रांची धोनी के बर्थडे पर पहुंचीं थी। बस अफवाह तो यही है कि हम दोनों बचपन से मित्र है जो कि एक दम गलत है। इसी तरह से शुरू हुई थी धोनी और साक्षी की प्रेम कहानी....

PM मोदी का पत्र पाकर अभिभूत हुईं मिताली राज, बोलीं- आप लाखों लोगों के रोल मॉडल

कोहली को सहवाग ने क्यों कहा 'छमिया' ? तेजी से वायरल हो रहा Video

Ind Vs Eng: बाल-बाल बचे ऋषभ पंत, तीसरे दिन की अंतिम गेंद पर ख़त्म हो जाती पारी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -