फिल्म रिव्यु : मिस्टर एक्स

Apr 17 2015 02:03 PM
फिल्म रिव्यु : मिस्टर एक्स
style="text-align: justify;">बॉलीवुड में हॉरर फिल्म बनाने के लिए मशहूर विक्रम भट्ट निर्देशित इमरान हाशमी की 'मिस्टर एक्स' आज सिनेमाघरो में रिलीज हो गई है, यह एक 3डी फिल्म है. साथ ही एक नयापन है कि फिल्म का नायक अदृश्य हो जाता है. यह नायक अदृश्य होने पर भी अपनी प्रेमिका को चूमता है, क्योंकि फिल्म में इमरान हाशमी हैं. इमरान हाशमी की कोई फिल्म बगैर किस के समाप्त नहीं होती. विक्रम भट्ट 3डी तकनीक में दक्ष हैं. वे अपनी फिल्में 3डी कैमरे से शूट भी करते हैं, लेकिन इस तकनीकी कुशलता के बावजूद उनकी 'मिस्टर एक्स' में कुछ नयापन नहीं दिखाई देता है. रघु और सिया एटीडी में काम करते हैं, दोनों अपने विभाग के कर्मठ अधिकारी हैं. एक-दूसरे से प्रेम कर रहे रघु और सिया शादी करने की छट्टी ले चुके हैं. उन्हें बुलाकर एक खास असाइनमेंट दिया जाता है.

 रघु और सिया पीछे नहीं हटते. वे इस असाइनमेंट में एक कुचक्र के शिकार होते हैं. स्थितियां ऐसी बनती हैं कि दोनों एक-दूसरे के खिलाफ हो जाते हैं. अदृश्य हो सकने वाला नायक अब बदले पर उतारू होता है. वह स्पष्ट है कि कानून उसकी कोई मदद नहीं कर सकता, इसलिए कानून तोडऩे में उसे कोई दिक्कत नहीं होती. बदले की इस भिड़ंत के बीच कुछ हॉट सिंस दिखाए गए है. 'मिस्टर एक्स' से ऐसी उम्मीद नहीं की जा सकती. इमरान हाशमी का जादू बेअसर हो चुका है. फिल्म में उनका किरदार ढंग से लिखा भी नहीं गया है. सिया की भूमिका में अमायरा दस्तूर कमजोर हैं,जबकि उन्हें कुछ अच्छे दृश्य मिले हैं. अरूणोदय सिंह अपनी मौजूदगी से प्रभावित नहीं करते. उन्हें अभी तक अभ्यास की जरूरत है.