पिता अब दे रहे बच्चों पर ज्यादा ध्यान

यूँ तो बच्चे सबसे ज्यादा उनकी माँ के करीब होते हैं, क्योंकि वह अपने बच्चों की देखभाल में सक्रीय भूमिका निभाती हैं. पर ज़माना बदलने के साथ पिताओं की भूमिका भी बदली है. एक सर्वे के अनुसार भारत में अपने बच्चों की नियमित देखभाल में भूमिका निभाने वाले पिताओं की संख्या बढ़ रही है.

मुंबई स्थित पोदार इंस्टीट्यूट ऑफ एजुकेशन की ओर से हुए सर्वेक्षण में 4,800 पिताओं ने हिस्सा लिया था. इस सर्वे में यह पता चला है कि बच्चों की देखभाल में पिताओं की भागीदारी बढ़ रही है, पर इनमें से अधिकांश बच्चों की देखभाल अकेले नहीं कर पाते. उन्हें इसके लिए अपने पत्नी की मदद लगती है. लगभग 88 फीसदी पिताओं को बच्चों को बाहर ले जाने के दौरान पत्नी की आवश्यकता होती है. सिर्फ 12 फीसदी ही यह अकेले कर पाते हैं.

सर्वे के अनुसार 70 फीसदी ऐसे पिता हैं, जो काम पर जाने के लिए यात्रा की दूरी को कम करने की कोशिश करते हैं ताकि वह अपने बच्चों के साथ ज्यादा समय बीता सकें. इस सर्वे से पता लगा है कि अब पिता अपने बच्चों की हर गतिविधि की जानकारी रखते हैं. बच्चों के स्कूल में भी नियमित रूप से जाते हैं और उनके हर कार्यक्रम में सक्रीय रूप से जुड़े रहते हैं. पिता द्वारा बच्चों को दिए जाने वाले समय से बच्चे पढ़ाई के साथ-साथ हर गतिविधि में अच्छा प्रदर्शन कर पाते हैं.

सात साल के बच्चे ने लगाई फांसी

लड़कियों को आपत्तिजनक तस्वीरें भेजने वाला युवक गिरफ्तार

सांड ने ली विदेशी पर्यटक की जान

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -