स्वाद के साथ सेहत का भी ख्याल रखती है ड्रमस्टिक

सहजन की फली को आप ड्रमस्टिक के नाम से भी जानते होंगे। भारत के कई हिस्सों में इसे सब्जियों के साथ इस्तेमाल किया जाता है. सहजन खाने का स्वाद तो बढ़ाती ही है, साथ ही साथ शरीर को भी बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ देती है. आज हम सहजन के कुछ फायदों के बारे में आपको बताएँगे।

कुपोषण पीड़ित लोगों के आहार के रूप में सहजन का प्रयोग करने की सलाह दी गई है। एक से तीन साल के बच्चों और गर्भवती महिलाओं के लिए यह वरदान माना गया है। सहजन की जड़ का अजवाइन, हींग और सौंठ के साथ काढ़ा बनाकर पीने का प्रचलन है। इसका काढ़ा साइटिका रोग के साथ ही, पैरों के दर्द व सूजन में भी बहुत लाभकारी है। इसमें कैल्शियम की मात्रा अधिक होती है, जिससे हड्डियां मजबूत बनती है। इसके अलावा इसमें आयरन, मैग्नीशियम और सीलियम होता है। इसीलिए महिलाओं व बच्चों को इसका सेवन जरूर करना चाहिए।

इसमें जिंक भी भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो कि पुरुषों की कमजोरी दूर करने में अचूक दवा का काम करता है। सहजन के पत्ते का पाउडर कैंसर और दिल के रोगियों के लिए एक बेहतरीन दवा है। यह ब्लडप्रेशर कंट्रोल करता है। इसका प्रयोग पेट में अल्सर के इलाज के लिए किया जा सकता है। इसके सूप से शरीर का खून साफ होता है। चेहरे पर लालिमा आती है और पिंपल्स की समस्या खत्म हो जाती है। सहजन की पत्तियों से तैयार किया गया सूप तपेदिक, अस्थमा और ब्रोंकाइटिस आदि रोगों में भी दवा का काम करता है। प्राकृतिक गुणों से भरपूर सहजन इतने औषधीय गुणों से भरपूर है कि इसकी फली के अचार और चटनी कई बीमारियों से मुक्ति दिलाने में सहायक हैं।

माकपा केरल को सांप्रदायिक आधार पर विभाजित करने की कर रही है कोशिश: चेन्नीथला

रिहाना का समर्थन कर बोलीं स्वरा- 'हमारे सेलेब्स भी ब्लैक लाइव मैटर ट्रेंड कर रहे थे...'

ग़ाज़ीपुर से गिरफ्तार हुआ छत्तीसगढ़ पुलिस का कांस्टेबल, हैंड ग्रेनेड व प्रतिबंधित पिस्टल के साथ धराया

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -