करोड़ों रूपए की दवा बांट चुका है भारत, 40 देशों ​​को मिला कोरोना से जीवन

दुनिया को कोरोना ने बुरी तरह अपना शिकार बना लिया है. जिसके बाद भारत सबकी मदद के लिए आगे आया है. वही, अब भारत ने अपने पड़ोसी व दूसरे कम विकसित देशों को मदद और बढ़ा दी है. भारत ने अभी तक इन देशों को 38.3 करोड़ रुपये मूल्य की दवाएं व अन्य चिकित्सीय सामग्री पहुंचा दी हैं. मालदीव और कतर की मदद के लिए चिकित्सा टीम भी भेजी गई है जबकि दूसरे देशों के लिए भी डॉक्टरों व नसरें की टीम तैयार की जा रही है.

लॉकडाउन में मजदूरों का पलायन जारी, सीकर से झालावाड़ पैदल जा रहे श्रमिक

इस मामले को लेकर विदेश मंत्रालय की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक तमाम देशों को 50 लाख हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन (HCQ) की गोलियां भेजी गई हैं, वहीं13.2 लाख पैरासीटामोल (पीसीएम) की भी गोलियां दी गई हैं. इन दोनों दवाइयों के अलावा भी बड़े पैमाने पर दूसरी जीवनोपयोगी दवाएं भी दी जा रही हैं.

लॉकडाउन: भूखे ना रहें गऱीब, इसलिए दो मुस्लिम भाइयों ने बेच दी अपनी जमीन

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि कई देशों को प्रयोगशालाओं व अस्पतालों के लिए उपकरण दिए जा रहे हैं. इसके अलावा कई देश वाणिज्यिक आधार पर भारतीय कंपनियों से दवाइयां व अन्य सामग्री खरीद रहे हैं जिसे उन देशों तक जल्दी से पहुंचाने में सरकारी मदद दी जा रही है. भारतीय कंपनियों से अभी 40 देशों ने 28.5 करोड़ एचसीक्यू और 60 देशों ने 50 करोड़ पीसीएम वाणिज्यिक आधार पर खरीदने का फैसला किया है. इन सभी देशों के नेताओं ने भारत के इस कदम की प्रशंसा भी की है कि उन्हें समय पर जीवन बचाने वाली दवाएं मिल पा रही हैं.

अनोखा दान: क्या सच में आटे के पैकेट में से निकले 15-15 हज़ार ?

मजदूरों को घर भेजने के लिए स्पेशल ट्रेन चलाओ, रेल मंत्री को अजित पवार की चिट्ठी

जानें चीफ जस्टिस एस.ए. बोबडे के जीवन से जुड़ी रोचक बातें

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -