डीएमके ने मेकाडटू बांध पर की बैठक, विरोध हुआ शुरू

डीएमके ने मेकाडटू बांध पर की बैठक, विरोध हुआ शुरू

तमिलनाडु राज्य में आजकल मेकाडतु डैम को लेकर चर्चा शांत है। द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) के संसद के कुछ सदस्यों ने कर्नाटक सरकार की सिफारिश के अनुसार मेक्डूडा बांध के मुद्दे पर पीएम मोदी से मुलाकात की और डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन के पत्र को सौंपा। स्टालिन, जो तमिलनाडु विधानसभा में विपक्ष के नेता हैं, ने मेकाडातु में कावेरी नदी के पार बांध के विकास पर नाराजगी जताई।

पीएम नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में द्रमुक प्रमुख ने उनसे आग्रह किया कि इसमें शामिल केंद्रीय मंत्रालयों को निर्देश दिया जाए कि वे कर्नाटक के पड़ोसी राज्य द्वारा प्रस्तावित मेकेदातु बांध के निर्माण को मंजूरी न दें। स्टालिन ने लिखा, "मुझे इस बात से निराशा है कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने आपसे मिलने के दौरान तमिलनाडु राज्य के सबसे मजबूत विरोध के बावजूद, मेकेदातु सहित सिंचाई और पेयजल परियोजनाओं के लिए शीघ्र मंजूरी और मंजूरी की मांग की।"

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ई पलानीस्वामी ने भी पहले नरेंद्र मोदी को संबोधित करते हुए बांध का विरोध करते हुए घोषणा की थी कि प्रस्तावित परियोजना कावेरी नदी के प्राकृतिक प्रवाह को प्रभावित करेगी और अंतिम स्थगन को समाप्त कर देगी। स्टालिन ने अपने पत्र में, उल्लेख किया कि प्रस्तावित जलाशय कावेरी जल विवाद न्यायाधिकरण के अंतिम आदेश के 5 फरवरी, 2007 के कुल उल्लंघन के साथ-साथ 16 फरवरी, 2018 को भारत के सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के अनुसार है। स्टालिन भी यह अनुमान लगाया गया कि यह परियोजना किसानों के हित और तमिलनाडु में आम लोगों की पेयजल जरूरतों के लिए पूरी तरह से हानिकारक है।

अवैध खनन रोकने में नाकाम रही गहलोत सरकार, भाजपा नेता राजेंद्र राठौर का आरोप

कृषि बिलों के विरोध और सांसदों के निलंबन के बीच विदेश से वापस लौटे सोनिया-राहुल

कोरोना को लेकर एक्शन में केंद्र, सात राज्यों के सीएम के साथ पीएम मोदी करेंगे बैठक