अब इस नाम से जाना जाएगा MP का मिंटो हॉल

भोपाल: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में स्थित मिंटो हॉल (Minto Hall) का नाम बीते शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बदल डाला है। CM शिवराज ने बीजेपी कार्यसमिति की बैठक में इस हॉल का नाम बदलकर कुशाभाऊ ठाकरे हॉल रख दिया है। आप सभी को बता दें कि इस दौरान CM ने कहा, 'हम जहां बैठे हैं इसका नाम मिंटो हॉल है। अब आप बताओ ये धरती अपनी, ये मिट्टी अपनी, ये पत्थर अपने, ये गिट्टी अपनी, ये चूना अपना, ये गारा अपना, ये भवन अपना, बनाने वाले मजदूर अपने, ये पसीना अपना और नाम मिंटो का। इस विधानसभा भवन में कई लोग बैठे थे। उन्हें यहां तक और लोकसभा तक पहुंचाने वाले कुशाभाऊ ठाकरे हैं। जिनने ये नेता गढ़े, जिनने ये कार्यकर्ता बनाये, जिनने पूरे मध्यप्रदेश में वट वृक्ष के रूप में भारतीय जनता पार्टी को खड़ा किया इसलिए मिंटो हाल का नाम कुशाभाऊ ठाकरे जी के नाम पर रखा जाएगा।'

आप सभी जानते ही होंगे हबीबगंज रेलवे स्टेशन का नाम बदलने के बाद से ही मिंटो हॉल का नाम बदलने की मांग जोर पकड़ रही थी। बीते दिनों ही हबीबगंज का नाम बदलकर रानी कमलापति स्टेशन कर दिया गया था और इसी के बाद से कई बीजेपी नेताओं ने मिंटो हॉल के नए नाम को लेकर प्रस्ताव दिए थे। बात करें मिंटो हॉल की तो इसकी नींव 12 नवंबर 1909 को रखी गई थी।

कहा जाता है साल 1909 में भारत के तात्कालीन वायसराय लॉर्ड मिंटो भोपाल आए और उन्हें उस समय राजभवन में रुकवाया गया था हालाँकि वायसराय वहां की व्यवस्था देखकर काफी नाराज हुए। इसी को देखते हुए तत्कालीन नवाब सुल्तानजहां बेगम ने आनन फानन में एक हॉल बनवाने का निर्णय लिया और इसकी नींव वायसराय लॉर्ड मिंटो से रखवाई। कहते हैं उन्हीं के नाम पर इस हॉल का नाम मिंटो हॉल रखा गया।

Whatsapp के बाद Truecaller यूजर्स के लिए लेकर आ रहा है नया फीचर

कोरोना के नए वैरिएंट से दुनियाभर में दहशत, आज PM मोदी ने बुलाई हाई लेवल बैठक

मदरसे में पढ़ने वाली छात्रा का मौलवी ने किया बलत्कार, पत्नी करने लगी बचाव

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -