चीन के कंट्रोवर्सिअल कपड़ों पर प्रतिबंध लगाने वाला है!

चीन के कंट्रोवर्सिअल कपड़ों पर प्रतिबंध लगाने वाला है!
Share:

एक आश्चर्यजनक कदम में, चीन एक नए नियम पर विचार कर रहा है जिसके तहत कम्युनिस्ट सरकार के लिए अपमानजनक माने जाने वाले कपड़े पहनने पर जुर्माना लगाया जा सकता है। इस घटनाक्रम ने चीन के भीतर और बाहर दोनों जगह महत्वपूर्ण बहस और चिंताओं को जन्म दिया है। आइए विवरण में उतरें।

प्रस्तावित प्रतिबंध और उसका दायरा

चीनी कानून में संशोधन के मसौदे में उल्लिखित प्रस्तावित प्रतिबंध का उद्देश्य ऐसे व्यवहार पर अंकुश लगाना है जिसे "चीनी लोगों की भावना के लिए हानिकारक और चीनी लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाला" माना जाता है। इसमें कपड़ों की पसंद और भाषण सहित गतिविधियों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है।

कानूनीपरिणाम

यदि यह कानून लागू होता है, तो उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों को गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं। उन पर 5,000 युआन (£545) तक का जुर्माना या 15 दिनों तक की कैद भी हो सकती है। हालाँकि, वास्तव में आपत्तिजनक पोशाक या भाषण क्या है यह स्पष्ट नहीं है, जिससे कई लोग अनिश्चितता की स्थिति में हैं।

व्यापक संदर्भ

यह विवादास्पद कानून असहमति को दबाने और देश की 1.4 अरब आबादी पर नियंत्रण बनाए रखने के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के चल रहे अभियान का हिस्सा है। चीनी सरकार ने कम्युनिस्ट पार्टी की विचारधाराओं के अनुरूपता सुनिश्चित करने के उद्देश्य से सार्वजनिक व्यवहार और अभिव्यक्ति को विनियमित करने के लिए कई उपाय किए हैं।

कपड़ों से संबंधित प्रतिबंधों के पिछले उदाहरण

चीन में कपड़ों से संबंधित प्रतिबंध लगाने का इतिहास रहा है। एक उदाहरण में, सूज़ौ में एक महिला को पारंपरिक जापानी किमोनो पहनने के लिए जेल में डाल दिया गया था, जिससे ऐसे नियमों की सीमा पर सवाल खड़े हो गए। इसके अतिरिक्त, सरकार ने आयोजनों में इंद्रधनुषी शर्ट पहनने और एलजीबीटीक्यू+ समर्थक प्रतीकों को प्रदर्शित करने वाले व्यक्तियों पर कार्रवाई की, जिससे व्यक्तिगत स्वतंत्रता के बारे में चिंताएं और बढ़ गईं।

सार्वजनिक आक्रोश और बहस

प्रस्तावित कपड़ों पर प्रतिबंध से चीनी नागरिकों के बीच सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर आक्रोश फैल गया है। कई लोगों ने इस बारे में संदेह व्यक्त किया है कि सरकार यह कैसे निर्धारित कर सकती है कि किसी व्यक्ति की पोशाक या भाषण देश की संवेदनाओं के लिए अपमानजनक है। कुछ लोगों ने चीनी राष्ट्र की भावना के लचीलेपन और कपड़ों की पसंद के प्रति इसकी संवेदनशीलता पर सवाल उठाया है।

ऐतिहासिक मिसाल: हांगकांग में कपड़ों पर प्रतिबंध

इस साल की शुरुआत में, हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक विरोध प्रदर्शन के दौरान, चीनी सरकार ने शहर में काले कपड़ों की खेप पर प्रतिबंध लगा दिया था। इस कदम का उद्देश्य उन प्रदर्शनकारियों को दबाना था जिन्होंने अपने उद्देश्य के प्रतीक के रूप में काली टी-शर्ट, जींस और फेस मास्क पहने थे। यह प्रतिबंध हेलमेट, छाते और ड्रोन सहित कई अन्य वस्तुओं पर भी लागू हुआ।

अंतर्राष्ट्रीय जांच

'भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाले' कपड़ों पर प्रतिबंध लगाने के कानून पर चीन के विचार ने महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय ध्यान आकर्षित किया है। पर्यवेक्षक यह देखने के लिए उत्सुक हैं कि यदि यह कानून लागू होता है, तो चीन के भीतर व्यक्तिगत स्वतंत्रता और व्यापक सामाजिक परिदृश्य पर क्या प्रभाव पड़ेगा।

जैसे-जैसे यह विवादास्पद मुद्दा सामने आता है, यह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, व्यक्तिगत अधिकारों और व्यक्तिगत विकल्पों को विनियमित करने में सरकार की भूमिका के बारे में बुनियादी सवाल उठाता है। हम आपको इस मामले पर नीचे टिप्पणी में अपने विचार साझा करने के लिए आमंत्रित करते हैं।

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -