चातुर्मास में माँ लक्ष्मी करेंगी कृपा

Aug 01 2018 04:37 PM
चातुर्मास में माँ लक्ष्मी करेंगी कृपा

23 जुलाई से चातुर्मास शुरू हो गए हैं और कोई  भी शुभ कार्य बंद हो गए हैं. जी हाँ, इन महीनों में कोई भी मंगल काम या शुभ काम नहीं किये जाते. चार महीने के लिए भगवान विष्णु क्षीर सागर में विश्राम के लिए चले जाते हैं जिसके चलते वो संसार से दूर हो जाते हैं और भगवान भोलेनाथ इन चार महीनों में सृष्टि का भर सँभालते हैं. भगवान विष्णु जब विश्राम करते हैं तो उनका आशीर्वाद नहीं मिल आता जिसके कारण कोई शुभ काम नहीं होते. 

असाध्य रोगों से छुटकारा चाहते हैं तो सावन में करें ये उपाए

चातुर्मास में आपको भगवान विष्णु का ज्यादा से ज्यादा ध्यान करना चाहिए ताकि किसी तरह की कोई परेशानी न आये. भगवान विष्णु के साथ आपको माँ लक्ष्मी की आराधना भी करनी चाहिए, इससे माता लक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी रहती है. तो आज हम आपको यही बताने जा रहे हैं किस तरह माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करें. कहते हैं चतुर्मास में चार महीनों का कफ महत्व होता है. जिसमें पहला महीना सावन का होता है, दूसरा भाद्रपद, तीसरा महीना अश्विन का चौथा महीना कार्तिक का होता है और हर महीने में अलग-अलग देवी देव को पूजा जाता है.

आपके भाग्य को चमका सकते हैं भोलेनाथ के ये 22 पवित्र नाम

सावन में भगवान शिव की आराधना की जाती है जिसका काफी महत्व होता है. भाद्रपद की कृष्ण पक्ष अष्टमी में ही कृष्ण का जन्म हुआ था जिसे कृष्णा जन्माष्टमी के रूप में मनाया जाता है. अश्विन माह कृष्ण पक्ष में पितरों की पूजा की जाती है और शुक्ल पक्ष में शारदीय नवरात्र होता हैं. कार्तिक के महीने में दिवाली आती है जिसमें भगवान शालीग्राम और तुलसी विवाह होता है और यही से सारे शुभ काम शुरू होते हैं. कहा जाता है चातुर्मास में तेल, दही के साथ चावल, गुड़, मूली, बैंगन का सेवन नहीं करना चाहिए.

खबरें और भी..

सावन के महीने में पवन सिंह के गाने ने किया धमाका

अंगारकी गणेश चतुर्थी की पूजा विधि

?