ओमीक्रॉन प्रभावित देशों से भारत आने वालों के लिए यह हैं 5 खास नियम

जिन देशों में कोविड-19 का नया स्वरूप ‘ओमीक्रोन’(Omicron) का पता चला है, वहां से फ्लाइट्स के जरिये भारत आने वाले यात्रियों के लिए कुछ नियम बनाए गए हैं। जी हाँ और उन नियमों का यात्रियों को खास पालन करना होगा। यह नियम भारत सरकार ने देश में कोरोना के नए स्‍ट्रेन के प्रसार को रोकने के लिए बनाये हैं। यह खास 5 नियम है जो हम आपको बताने जा रहे हैं।

खास 5 नियम-

* भारत आने वाले हर इंटरनेशनल पैसेंजर को स्‍वघोषणा फॉर्म भरना होगा और निगेटिव RT-PCR रिपोर्ट दिखानी होगी। अगर वह इन दो शर्तों में से किसी को भी पूरा नहीं करते हैं तो भारत में प्रवेश नहीं कर सकेंगे।

*दक्षिण अफ्रीका जैसे 'जोखिम वाले' देशों ('at-risk' nations)से आने वाले यात्रियों को भारत पहुंचने के बाद RT-PCR टेस्‍ट के लिए सैंपल देना होगा। ऐसे में पॉजिटिव पाए जाने पर शख्‍स को क्‍वारंटाइन किया जाएगा और उसका सैंपल जीनोम सीक्‍वेंसिंग के लिए भेजा जाएगा। 

* जोखिम वाले देशों के जिन लोगों की टेस्‍ट रिपोर्ट निगेटिव होगी, उनको भी घर में सात दिनों तक क्‍वारंटाइन रहना होगा। वहीं आठवें दिन उनका फिर टेस्‍ट किया जाएगा। 

* बिना जोखिम वाले देशों से आ रहे लोगों को भी, रैंडम सैंपलिंग से गुजरना होगा। वहीं किसी का सैंपल पॉजिटिव आने की स्थिति में जीनोम सीक्‍वेंसिंग के लिए भेजा जा जाएगा और उसे क्‍वारंटाइन किया जाएगा।

* ऐसे देशों से आने वाले लोगों, जो कि जोखिम वाले देशों की श्रेणी में नहीं हैं और जिनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है, उनको भी कम से कम दो हफ्ते अपनी सावधानीपूर्वक निगरानी की सलाह दी गई है। 

कर्नाटक ने अंतराष्ट्रीय यात्रियों के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए

6 गुना ताकतवर ओमिक्रॉन वेरिएंट, जानिए क्या है लक्षण!

कितना खतरनाक है Omicron वैरिएंट ? सबसे पहले अलर्ट करने वाली डॉक्टर ने बताए लक्षण

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -