शेयर बाजार में नौकरी पाने के है ढेरों विकल्प, करियर को मिलेगी जबरदस्त सफलता

यदि आप शेयर मार्केट स्टॉक एक्सचेंज, स्टॉक ब्रोकर, निफ्टी तथा सेंसेक्स में इंट्रेस्ट रखते हैं तो इन सभी शब्दों से आप पहले से वाकिफ होंगे। शेयर बाजार में रुपया लगाना इन दिनों सामान्य हो गया कई लोग इस शेयर बाजार में रुपया लगाते हैं। मगर शेयर बाजार कोई बच्चों का खेल नहीं है इस बाजार में पैसा लगाने के लिए बहुत जानकारी होनी चाहिए नहीं आपको हानि भी हो सकती है। शेयर बाजार रूपये कमाने का माध्यम हो सकता है किन्तु क्या आप जानते हैं कि इस सेक्टर में यदि आपकी दिलचस्पी है तो आप अपना करियर भी बना सकते हैं। जो शख्स किसी निवेशक तथा शेयर बाजार के बीच काम करता है, उसे स्टॉक ब्रोकर बोला जाता है। इस क्षेत्र में भी नौकरी की अपार संभावनाएं मौजूद हैं। स्टॉक एक्सचेंज तथा निवेशक के बीच स्टॉक ब्रोकर एक कड़ी की भांति काम करता है। ब्रोकर के बगैर किसी भी निवेशक के लिए शेयर बाजार में बेस्ट परफॉर्मेंस दे पाना कठिन है। शेयर बाजार में पैसा लगाने के लिए डिमैट अकाउंट की आवश्यकता पड़ती है तथा बगैर ब्रोकर आप डिमैट अकाउंट नहीं खोल सकते हैं।

2 प्रकार के स्टॉक ब्रोकर होते हैं:-

फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर:- फुल सर्विस स्टॉक ब्रोकर अपने क्लाइंट्स को स्टॉक एडवाइजरी (कौन सा शेयर कब खरीदें तथा कब बेचें), स्टॉक क्रय करने के लिए मार्जिन मनी की सुविधा, मोबाइल फोन पर ट्रेडिंग सुविधा तथा IPO में इन्वेस्टमेंट की फैसिलिटी जैसी सर्विस देते हैं। इस सर्विस की फीस अधिक होती है। फुल टाइम स्टॉक ब्रोकर की कस्टमर सर्विस बहुत अच्छी मानी जाती है।

डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर:- दूसरा होता है डिस्काउंट ब्रोकर अपने क्लाइंट से बेहद कम ब्रोकरेज लेकर शेयर खरीदने तथा बेचने की सुविधा देते हैं। इनकी फीस कम होती है। डिस्काउंट स्टॉक ब्रोकर अपने क्लाइंट को स्टॉक एडवाइजरी तथा रिसर्च की सुविधा नहीं देते हैं। किसी का खाता खोलने से लेकर इनके अधिकांश काम ऑनलाइन ही होते हैं।

स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए आवश्यक योग्यता:-
स्टॉक ब्रोकर बनने के लिए आप कोर्स कर सकते हैं। स्टॉक ब्रोकर कॉमर्स, एकाउंटेंसी, इकोनॉमिक्स, स्टेटिस्टिक्स अथवा बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन का ग्रान होना बहुत आवश्यक है। इन विषयों में ग्रेजुएशन या पोस्ट ग्रेजुएशन कर सकते हैं। शनल स्टॉक एक्सचेंज का ‘एनसीएफएम कोर्स’ ऑनलाइन सर्टिफिकेशन प्रोग्राम है।

नौकरी की क्या संभावनाएं है?
शैक्षणिक योग्यता तथा अनुभव के आधार पर इक्विटी डीलर, इक्विटी ट्रेडर, इक्विटी एडवाइजर, स्टॉक एडवाइजर, वेल्थ मैनेजर, फाइनेंशियल एनालिस्ट, इन्वेस्टमेंट एडवाइजर, सिक्योरिटी एनालिस्ट तथा रिस्क मैनेजर के रूप में नौकरी पा सकते हैं। इस क्षेत्र में आपको स्टॉक एक्सचेंज, रेगुलेशन अथॉरिटी, फॉरेन इन्वेस्टमेंट फर्म्स, इन्वेस्टमेंट कंसल्टेंसी, म्यूचुअल फंड वाली कंपनी, ब्रोकर फर्म्स, इंश्योरेंस एजेंसी, बैंक तथा दूसरे इंस्टिट्यूट में भी नौकरी के बहुत अच्छे स्कोप हैं। स्टॉक ब्रोकर के रूप में करियर बनाने के पश्चात् आपकी सालाना सैलरी 2 लाख रुपये से 8 लाख रुपये तक हो सकती है।

बिग बॉस की ये अकेली नारी पड़ रही है सब पर भारी, गालियों से करती हैं हमला

AIADMK ने TN सरकार से राशन कार्डधारकों के लिए पोंगल कैश बोनांजा रखने की मांग की

इस मशहूर एक्टर ने तोड़ दिया था जीनत का जबड़ा, आंख हो गई थी खराब

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -