डॉ भीमराव अम्बेडकर ने इन साप्ताहिक पत्रिकाओं को किया था संपादित

Apr 07 2020 06:12 AM
डॉ भीमराव अम्बेडकर ने इन साप्ताहिक पत्रिकाओं को किया था संपादित

डॉ. भीमराव अंबेडकर हमारे देश के संविधान निर्माता है. प्रेम से लोग उन्हें बाबासाहेब कहते है. ख़राब आर्थिक स्थिति व सामाजिक भेद-भाव का सामना करते हुए उन्होंने बहुत ही कठिन हालातों से गुजरकर अपनी पढ़ाई की और कानून के ज्ञाता बने तथा स्वतंत्र भारत के संविधान निर्माण में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया. जीवन के आखरी पड़ाव मे उन्होने बौद्ध धर्म अपना लिया था.

उन्‍होंने मूक, अशिक्षित और निर्धन लोगों को जागरुक बनाने के लिये मूकनायक और बहिष्कृत भारत साप्ताहिक पत्रिकाएं संपादित कीं और अपनी अधूरी पढ़ाई पूरी करने के लिये वह लंदन और जर्मनी जाकर वहां से एम. एस सी., डी. एस सी., और बैरिस्टर की उपाधियाँ प्राप्त की. उनके एम. एस सी. का शोध विषय साम्राज्यीय वित्त के प्राप्तीय विकेन्द्रीकरण का विश्लेषणात्मक अध्ययन और उनके डी.एससी उपाधि का विषय रूपये की समस्या उसका उद्भव और उपाय और भारतीय चलन और बैकिंग का इतिहास था.

मानवाधिकार जैसे दलितों एवं दलित आदिवासियों के मंदिर प्रवेश, पानी पीने, छुआछूत, जातिपाति, ऊॅच-नीच जैसी सामाजिक कुरीतियों को मिटाने के लिए मनुस्मृति दहन (1927), महाड सत्याग्रह (वर्ष 1928), नासिक सत्याग्रह (वर्ष 1930), येवला की गर्जना (वर्ष 1935) जैसे आंदोलन चलाए.

इंदौर: स्वास्थ्य कर्मियों पर हमला करने वाले आरोपी हुए गिरफ्तार

मां के निधन की सूचना मिलने के बाद भी डॉक्टर ने पहले निभाया फर्ज

भोपाल में 200 जमातियों को किया गया क्वारैंटाइन