राजस्थान: गहलोत के मंत्री ने ब्राह्मणों पर दिया विवादित बयान

जयपुर: राजस्थान में गहलोत सरकार के शहरी विकास मंत्री शांति धारीवाल की ब्राह्मणों पर विवादित टिप्पणी के बाद से मामला तूल पकड़ चुका है। जी दरअसल धारीवाल ने अपने बयान में कोटा के कोचिंग इंस्टीट्यृट के रिजल्ट की जाति के आधार पर तुलना करते हुए जातिवादी टिप्पणी की है। अब उनके इसी बयान के बाद से धारीवाल का विरोध शुरू हो गया। बीते शनिवार के दिन विप्र सेना के कार्यकर्ताओं ने धारीवाल के जयपुर स्थित आवास पर विरोध प्रदर्शन किया। बताया जा रहा है विरोध प्रदर्शन करने वालों ने धारीवाल से माफी मांगने की मांग की है।

जी दरअसल, शहरी विकास मंत्री शांति धारीवाल बीते शुक्रवार को अलवर में आदिनाथ जैन शिक्षण संस्थान में हुए कार्यक्रम में बोल रहे थे। इस दौरान उन्होंने अपने संबोधन में कहा, 'मैं ब्राह्मणों से कहता हूं, तुमने यार बुद्धि का ठेका ले रखा है। मेरे यहां कोटा के कोचिंग इंस्टीट्यूट पूरे देश में प्रसिद्ध हैं। उनका जो रिजल्ट आता है, उसमें 100 में से 70 बनिया कैसे आते हैं? तुम लोग कैसे पीछे रह जाते हो? इसका जवाब नहीं है उनके पास। आप उठाकर देख लेना कभी भी। कोटा के इंस्टीट्यूट का जब रिजल्ट आता है तो उसमें जिंदल मिलेगा, जैन मिलेगा या अग्रवाल मिलेगा। इस तरह के नाम मिलेंगे आपको। इनके संस्थान के परिणाम बेहतर आते हैं। यहां 70 फीसदी संस्थान के संचालक महाजन हैं।'

अब जब शांति धारीवाल ने ब्राह्मण समाज पर यह टिप्पणी की तो इस पर विवाद शुरू हो गया है। विप्र सेना के कार्यकर्ताओं ने राजधानी जयपुर में धारीवाल के आवास पर शनिवार को जमकर विरोध प्रदर्शन किया। वहीँ इस दौरान विप्र सेना के कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी करते हुए धारीवाल से माफी मांगने के लिए कहा। केवल यही नहीं बल्कि धारीवाल के न मिलने पर कार्यकर्ताओं ने गेट पर ही ज्ञापन चिपका दियाय। अब विप्र सेना के कार्यकर्ताओं का कहना है वह धारीवाल के माफी नहीं मांगने तक उनके खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी रखेंगे। वहीँ दूसरी तरफ उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र सिंह राठौड़ ने भी शांति धारीवाल से माफी मांगने के लिए कहा है।

MP: आदिवासी को पीटकर बाँधा गाड़ी से और घसीटा 100 मीटर तक

फटे कपड़े में गहना ने शेयर की तस्वीर, कहा- 'पुलिस ने ये किया है'

फिर मुसीबत में फंसे अरमान कोहली, NCB ने लिया हिरासत में

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -