वर्ल्ड फार्मासिस्ट डे आज, जानिए इसका महत्व और इतिहास

वर्ल्ड फार्मासिस्ट डे प्रति वर्ष 25 सितंबर को दुनियाभर में सेलिब्रेट किया जाता है। वर्ल्ड फार्मासिस्ट डे इंटरनेशनल फार्मास्युटिकल फेडरेशन (FIP) की एक पहल थी, जिसे 2000 के दशक में इस्तांबुल में आयोजित एक सम्मेलन के दौरान मान्यता दी गई थी। इस दिन का उद्देश्य फार्मेसियों पर ध्यान आकर्षित करना है। ये विश्वभर में स्वास्थ्य में सुधार के लिए फार्मेसी पेशे की मूल्य को दर्शाने के लिए मनाया जाता है। लोगों को विज्ञान और अनुसंधान के माध्यम से फार्मासिस्ट के बारे कहा जाता है। उनके ज्ञान से अगली पीढ़ी को शिक्षित किया जाता है और मरिजों की आवश्यकता को सेवाओं में परिवर्तित किया जाए।

दुनियाभर में जागरूकता बढ़े: FIP इस दिन पर फार्मासिस्टों से आग्रह करता है कि वो ऐसे आयोजन करें जिससे व्यक्तियों को सेहत में फार्मासिस्ट की भूमिका की सारी सूचना मिली। ये विश्वभर में हेल्थ में सुधार के लिए फार्मेसी पेशे के दाम को दर्शाने के लिए मनाया जाता है। FIP अपने सभी सदस्यों को इस आयोजन को सफल बनाने के लिए भाग लेने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है।

1912 में हुई थी स्थापना: यह वैश्विक तौर पर फार्मेसी और फार्मास्यूटिकल साइंस का प्रतिनिधित्व करने वाला संगठन बना। इस गैर सरकारी संगठन की स्थापना 1912 में की गई थी। जिसका मुख्यालय नीदरलैंड में है। अपने 140 राष्ट्रीय संगठनों, शिक्षण संस्थान तथा व्यक्तिगत सदस्यों के जरिए से विश्वभर में 40 लाख फार्मासिस्ट और फार्मास्युटिकल वैज्ञानिकों का प्रतिनिधित्व करना। यह विश्व को सभी के लिए बेहतर स्थान बनाने के लिए अपने अनुभव, ज्ञान और विशेषज्ञता का इस्तेमाल करते हैं।

कमला हैरिस से लेकर स्कॉट मॉरिसन तक पीएम मोदी ने इन लोगों को दिए खास तोहफे

पीएम योशिहिदे सुगा से मिले PM मोदी, कहा- भारत और जापान की मजबूत दोस्ती विश्व के लिए शुभ संकेत

लड़की के गुस्से ने ली बॉयफ्रेंड की जान, जानिए पूरा मामला

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -