अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस: बाघों के लिए मशहूर है भारत, जानिए रोचक बातें

Jul 28 2019 06:29 PM
अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस: बाघों के लिए मशहूर है भारत, जानिए रोचक बातें

नई दिल्ली: आज विश्व बाघ दिवस है। बाघों के संरक्षण को ध्यान में रखते हुए एक दिन बाघों के नाम समर्पित किया जाता है। बता दें कि पूरे विश्व में बाघों की तेजी से घटती संख्या के प्रति संरक्षण के लिए जागरूकता फैलाने को लेकर प्रति वर्ष 29 जुलाई को ‘वर्ल्ड टाइगर डे’ मनाया जाता है। इस दिन विश्व भर में बाघों के संरक्षण से सम्बंधित जानकारियों को साझा किया जाता है और इस दिशा में जागरुकता अभियान चलाया जाता है।

वर्ष 2010 से ‘वर्ल्ड टाइगर डे’ की शुरूआत की गई थी। वर्ष 2010 में रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में बाघ सम्मेलन में बाघों के सरंक्षण के लिए पति वर्ष ‘अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस’ मनाने का निर्णय लिया गया। तब से पति वर्ष दुनिया भर में वर्ल्ड टाइगर डे मनाया जाता है। इस सम्मेलन में 13 देशों ने हिस्सा लिया था और उन्होंने 2022 तक बाघों की तादाद में दोगुनी बढ़ोत्तरी का लक्ष्य रखा गया था।

जंगलों के कटान और अवैध शिकार की वजह से बाघों की संख्या तेज़ी से कम हो रही है। वर्ल्ड वाइल्डलाइफ फंड और ग्लोबल टाइगर फोरम के 2016 के आंकड़ों के अनुसार, पूरी दुनिया में तक़रीबन 6000 बाघ ही बचे हैं जिनमें से 3891 बाघ भारत में मौजूद हैं। पूरी दुनिया में बाघों की कई किस्म की प्रजातियां पाई जाती हैं। इनमें 6 प्रजातियां प्रमुख हैं। इनमें साइबेरियन बाघ, बंगाल बाघ, इंडोचाइनीज बाघ, मलायन बाघ, सुमात्रा बाघ और साउथ चाइना बाघ शामिल हैं। 

ICICI ने जारी किए आंकड़े, पहली तिमाही में कमाए इतने करोड़

इतने हवाई अड्डों का निजीकरण करेगी सरकार

मई महीने में इतने रोजगार पैदा हुए