एक बार फिर उत्तराखंड में हुआ हादसा, 4 लोगों की गई जान

देहरादून: एक बार फिर उत्तराखंड में दुर्घटना हुई है। यहां ट्रैकिंग पर गए 4 पर्यटकों की मौत हो गई है जबकि 2 गुमशुदा बताए जा रहे हैं। पिछले दिनों उत्तराखंड में हुई भारी वर्षा ने खूब कहर बरपाया है। इससे जनजीवन प्रभावित हुआ है। कफनी ग्‍लेशियर में ट्रैकिंग के लिए गए 20 पर्यटक गुमशुदा बताए जा रहे हैं। जिला आपदा अफसर शिखा सुयाल ने बताया कि रेस्क्यू टीम रवाना हो गई है।

वही अफसर के मुताबिक, उनके बारे में फिलहाल कोई खबर नहीं है। साथ ही द्वाली में भी 34 पर्यटक फंसे हुए हैं। SDRF की टीम देर रात ही पर्यटकों की सहायता के लिए रवाना हो गई थी। उत्तराखंड में सितंबर, अक्टूबर व नवंबर का माह पर्यटन का सीजन है। इस सीजन में बड़े आंकड़े में पर्यटक पहाड़ों का रुख करते हैं। बागेश्वर जिले में 3 स्‍थानों सुंदरढूंगा, कफनी तथा पिंडारी ग्‍लेशियर में पर्यटक ट्रैकिंग के लिए जाते हैं, जो 15 सितंबर से 15 नवंबर तक कराई जाती है।

वही दूसरी तरफ राज्य के लमखागा दर्रे में वायु सेना ने 17,000 फीट की ऊंचाई पर बड़े स्तर पर बचाव अभियान आरम्भ किया है, जहां 18 अक्टूबर को अत्यधिक बर्फबारी एवं खराब मौसम की वजह से पर्यटकों, पोर्टर्स एवं गाइड समेत 17 ट्रेकर्स मार्ग भटक गए थे। हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले को उत्तराखंड के हरसिल से जोड़ने वाले सबसे भयंकर दर्रे में से एक लमखागा दर्रे की तरफ जाने वाले क्षेत्र से अब तक 11 लाश जब्त की जा चुकी हैं। वही 20 अक्टूबर को भारतीय वायु सेना ने अफसरों द्वारा किए गए एक एसओएस कॉल का उत्तर दिया तथा प्रदेश के एक पर्यटक हिल स्टेशन - हरसिल तक पहुंचने के लिए दो उन्नत हल्के हेलीकॉप्टर (एएलएच) हेलिकॉप्टर तैनात किए। 

समीर वानखेड़े ने लगाई अनन्या पांडे को जमकर फटकार, बोले- ये कोई तुम्हारा प्रोडक्शन हाउस...

मानवता शर्मनाक! होटल कर्मी ने किया 60 वर्षीय वृद्धा से दुष्कर्म, हुआ गिरफ्तार

उत्तराखंड में छाया संकट, 11 ट्रेकर्स की गई जान

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -