अमृतसर रेल हादसा : घायलों से मिलने पहुंचे सिद्धू, बोले- हादसे पर राजनीती न करे

चंडीगढ़. पंजाब के अमृतसर में कल (शुक्रवार, 19 अक्टूबर) रात तक़रीबन आठ बजे रावण के पुतला दहन कार्यक्रम के दौरान हुए भीषण रेल हादसे में मरने वाले लोगों की संख्या 61 हो गई है. इसके साथ ही इस हादसे को लेकर देश में राजनीति भी शुरू हो गई है. इस हादसे के लिए कई पार्टियां कांग्रेस को भी जिम्मेदार ठहरा रही है. लेकिन इन सब के बीच अब कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने भी अपनी सफाई दी है.

अमृतसर रेल हादसे में ट्रैक पर बिखर गईं लाशें, ट्रेन से कटकर 61 लोगों की मौत

दरअसल कांग्रेस के नेता  नवजोत सिंह सिद्धू  आज सुबह इस हादसे में घायल हुए लोगों से मिलने के लिए अस्पताल पहुंचे थे. यहाँ पर घायलों से मिलने के बाद उन्होंने मीडिया संवादाताओं से बात करते हुए कहा है कि यह एक दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण हादसा है लेकिन लोगों को यह बात समझना चाहिए कि यह एक दुर्घटना है और इसे लेकर कोई राजनीति नहीं की जानी चाहिए. सिद्धू ने इस दौरान यह भी कहा है कि इस मामले में लापरवाही जरूर हुई है लेकिन यह जानबूझकर नहीं किया गया है. 

अमृतसर रेल हादसाः राजकीय शोक का एलान, कार्यालय व शैक्षणिक संस्थान भी रहेंगे बंद

 

हालाँकि इस दौरान सिद्धि ने यह भी कहा कि उन्हें हादसे के प्रत्यक्ष्दर्शियों से पता चला है कि ट्रैन के ड्राइवर ने दुर्घटना से पहले हॉर्न भी नहीं बजाया था और इस वक्त ट्रेन भी बेहद तेज रफ्तार में थी. उल्लेखनीय है कि यह भीषण हादसा कल रात उस वक्त हुआ जब इस स्थान पर दसहरा के तहत रावण दहन किया जा रहा था, लेकिन इस अचानक से दौरान दो हाई स्पीड ट्रैन पटरियों पर आ गई और इसकी चपेट में आने से कई लोगों की मौत हो गई इसके साथ ही तक़रीबन 72  लोग गंभीर रूप से घायल हो गए है. 

ख़बरें और भी 

अमृतसर रेल हादसा : आठ ट्रेने रद्द, पांच गाड़ियों के रुट में परिवर्तन

अमृतसर ट्रेन हादसे से सदमे में हैं बॉलीवुड सितारे, कुछ इस तरह किया शोक व्यक्त

अमृतसर की तरह केरल में भी हुआ था हादसा, 26 लोगों की हुई थी मौत

अमृतसर रेल हादसा : रेलवे की सफाई- इसमें रेलवे की कोई गलती नहीं, हमें आयोजन की कोई जानकारी नहीं थी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -