RTI से हुआ खुलासा, VVIP लोगों की फ्लाइट पर एयर इंडिया का 822 करोड़ शेष

RTI से हुआ खुलासा, VVIP लोगों की फ्लाइट पर एयर इंडिया का 822 करोड़ शेष
Share:

नकदी संकट के कारण विनिवेश के मुहाने पर खड़ी एयर इंडिया का अतिविशिष्ट लोगों (वीवीआइपी) की चार्टर फ्लाइटों पर 822 करोड़ रुपये का बकाया है। इसके अलावा  एक आरटीआइ के जवाब में यह जानकारी उपलब्ध कराई गई है। सेवानिवृत्त कॉमोडोर लोकेश बत्रा को बुधवार को उपलब्ध कराई गई जानकारी के अनुसार, 30 नवंबर 2019 तक अतिविशिष्ट लोगों की चार्टर फ्लाइटों पर 822 करोड़ रुपये का बकाया था। इसके अलावा कॉमोडोर बत्रा ने सूचना का अधिकार (आरटीआइ) कानून के तहत एयर इंडिया की बकाया राशि के बारे में नवीनतम जानकारी मांगी थी।

वही  इसके अलावा राहत एवं बचाव कायरें में विशेष विमानों के प्रयोग के लिए 9.67 करोड़ रुपये तथा विदेशी मेहमानों की फ्लाइटों के मद में 12.65 करोड़ रुपये बकाया हैं।वीवीआइपी चार्टर फ्लाइट के तहत एयर इंडिया राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को विशेष विमान जारी कराती है। इनके बिलों का भुगतान मंत्रालयों की तरफ से किया जाता है।इसके साथ ही यह उल्लेखनीय है कि नागर विमानन मंत्रालय ने पांच दिसंबर 2019 को एक जवाब में बताया था कि एयर इंडिया 8,556.35 करोड़ रुपये (अस्थायी) के घाटे में है। पांच फरवरी 2020 को मंत्रालय ने एयर इंडिया के घाटे के कारणों का उल्लेख करते हुए बताया था कि इसके पीछे उच्च ब्याज दर पर कर्ज, प्रतिस्पर्धा (खासकर कम कीमत वाले यात्रीवाहकों से), भारतीय रुपये के कमजोर होने के कारण विनिमय दर प्रभावित होना और उच्च परिचालन लागत बड़ी वजह हैं।

ऐसे में वीवीआइपी चार्टर फ्लाइट ही नहीं सरकारी अधिकारियों की यात्रा पर भी एयर इंडिया की बड़ी राशि भुगतान के लिए लंबित है। सरकारी अधिकारियों द्वारा उधार लिए गए टिकटों के मद में एयरलाइन का 31 मार्च 2019 तक 526.14 करोड़ रुपये बकाया था।वही  इनमें से 236 करोड़ रुपये से ज्यादा के बिलों का भुगतान तीन साल से भी अधिक समय से लंबित है। इस वजह से ही एयरलाइंस ने अपने खाते में 'वसूली की उम्मीद नहीं' के मद में करीब 281.82 करोड़ रुपये दर्ज किए हैं।

बढ़त में खुलने के बाद टूटा सेंसेक्स, रुपए में भी दर्ज की गई गिरावट

सरकारी बैंकों के समय में हुआ परिवर्तन, जानिए कब तक जमा कर सकेंगे नकदी

खतरे में पड़ा कश्मीर का व्यावसायिक तबका, अनुच्छेद 370 हटने के बाद हुए ऐसे हाल

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -