विदेशी कब्जे के कारण अफगानिस्तान में अशांति फैली हुई है : तालिबान

Aug 18 2018 06:40 PM
विदेशी कब्जे के कारण अफगानिस्तान में अशांति फैली हुई है : तालिबान

काबुल : तालिबान के नेता ने शनिवार को कहा कि अफगानिस्तान में तब तक शांति नहीं आएगी जब तक यहां विदेशी ‘कब्जा’ मौजूद रहेगा. इस आतंकी समूह ने कहा है कि अमेरिका से सीधी बात के बाद ही  अफगानिस्तान में शांति बहाल हो पाएगी. 

World Photography Day : ऐसे बना 19 अगस्त फोटोग्राफी दिवस

कुछ वर्षों में तालिबान मजबूत हुआ है और उसने देश के कई जिलों पर कब्जा कर लिया है और नियमित रूप से यहाँ बड़े हमलों को अंजाम दे रहा है. ईद-उल-जुहा के मौके पर जारी किए गए संदेश में मौलवी हैबतुल्ला अखुनजादा ने जानकारी देते हुए कहा कि तालिबान ‘इस्लामिक लक्ष्यों’ और अफगानिस्तान की संप्रभुता और युद्ध को समाप्त करने के लिए प्रतिबद्ध है

BREAKING: यूएन के पूर्व महासचिव कोफी अन्नान का निधन

गौरतलब है कि अफगानिस्तान सरकार को  अमेरिका का मुखौटा बताते हुए  तालिबान ने सरकार से बात करने से मना किया था और कहा था वह सीधे अमेरिका से बातचीत करेगा. तालिबान ने आगे कहा कि वह क्षेत्रीय सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है और अन्य देशों को खतरे में नहीं पड़ने देगा. बता दें कि तालिबान ने अमेरिकी और नाटो सेनाओं को अफगानिस्तान से पूरी तरह से हटाने की मांग की है. बता दें कि 15 अगस्त को अफगानिस्तान में तालिबानी हमले से 30 सैनिकों और पुलिसकर्मियों की मौत हो चुकी है.

ख़बरें और भी...

संयुक्त राष्ट्र से हिंदी में प्रसारित होगा समाचार बुलेटिन- सुषमा स्वराज

पकिस्तान के प्रधानमंत्री बनने के बाद अब इमरान को करना पड़ेगा इन चुनौतियों का सामना

विश्व हिंदी सम्मेलन में याद आए 'अटल'

?