डाबर के पूर्व निदेशक की 20 करोड़ की संपत्ति कुर्क

नई दिल्ली : प्रवर्तन निदेशालय (ईडी ) ने कालाधन विदेश में छुपाने के मामले में एचएसबीसी बैंक सूची में शामिल डाबर समूह के पूर्व निदेशक प्रदीप बर्मन की 20.87 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की है.

ईडी से मिली जानकारी के अनुसार उसने विदेशी विनिमय प्रबंधन कानून (फेमा ) के तहत कार्रवाई करते हुए यह संपत्ति कुर्क की है. इसमें हुडको और आईआरएसफसी के 50,000 करमुक्त बॉन्ड भी शामिल हैं.लीक सूची के आधार पर आयकर विभाग ने बर्मन के खिलाफ आरोपपत्र दायर कर ईडी ने इस मामले में जांच की थी.यह मामला अभी भी लंबित है.

उल्लेखनीय है कि ईडी की जांच में सामने आया कि बर्मन ने फेमा की धारा 4 का उल्लंघन करते हुए एचएसबीसी ज्यूरिख में 32.12 लाख डॉलर जमा कराए थे.उन्होंने 2007-08 के आयकर रिटर्न में इस राशि को नहीं दिखाया था.बता दें कि बर्मन डाबर इंडिया लि., सनत प्रोडक्स लि. ऐंड आयुर्वेद , रत्ना कमर्शियल इंटरप्राइजेस में निदेशक के अलावा बर्मन परिवार के ट्रस्ट डॉ. एस के बर्मन चैरिटेबल ट्रस्ट के न्यासी भी हैं.डाबर देश का प्रमुख आयुर्वेदिक कम्पनी है जिसके उत्पाद पूरे देश में लोकप्रिय है और इस मामले में कम्पनी ने साख भी हासिल की है, लेकिन इस मामले ने कम्पनी की साख को प्रभावित किया है.

 

यह भी देखें

प्रतिस्पर्धा आयोग जाएंगे खुदरा व्यापारी

पेट्रोलियम मंत्री ने रखी एलपीजी बटलिंग प्लांट की आधारशिला

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -