प्रीति रघुवंशी आत्महत्या मामला

चर्चित प्रीति रघुवंशी आत्महत्या मामले में प्रीति के पिता चंदन सिंह ने उदयपुरा कोर्ट में दूसरा परिवाद दायर किया है. इसमें एफआईआर से मंत्री रामपाल सिंह और उनकी पत्नी सहित दो पुत्रों के नाम आवेदन से हटाने की बात कही है. प्रीति रघुवंशी आत्महत्या मामले में कोर्ट 21 मई को फैसला दे सकती है.

चंदन सिंह ने परिवाद वापस लेने के अपने आवेदन में लिखा है कि उन्होंने गलत जानकारी और आवेश में आकर मंत्री रामपाल सिंह राजपूत, उनकी पत्नी शशिप्रभा सिंह और दुर्गेश पर एफआईआर कराने की बात लिख दी थी. प्रीति रघुवंशी आत्महत्या मामले में पुलिस की जांच भी बहुत दिनों से चल रही है. इस कारण से पुलिस की जांच में संदेह भी जताया गया. कोर्ट ने इस मामले में पुलिस से जांच रिपोर्ट भी मांगी है.

ये मामला उस समय चर्चा में आया था जब प्रीति ने 17 मार्च को सुबह उदयपुरा के घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. प्रीति पीडब्ल्युडी मंत्री रामपाल सिंह के बेटे की शादी कहीं और करने की बात से दुखी थी. रामपाल सिंह के बेटे गिरजेश ने प्रीति के साथ भोपाल के मंदिर में शादी की थी. गिरजेश के पिता ने प्रीति रघुवंशी को अपनी बहू मानने से मना कर दिया था. 

जापान में बनाई जाती है कीचड़ और मिट्टी की सुंदर बॉल्स

योगी की रात्रि चौपाल, योजनाओं की विफलता पर मचा बवाल

कॉमेडी का मसालेदार तड़का लगाने को तैयार है 'हाईजैक'

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -