राज्य सभा की दावेदारी में अक्षय अव्वल

Mar 21 2018 02:01 PM
राज्य सभा की दावेदारी में अक्षय अव्वल

मुंबई : अप्रैल में 12 हस्तियों में से तीन का राज्यसभा में कार्यकाल समाप्त हो जाएगा. इन सीटों पर अपनी जगह बनाने के लिए अभी से फिल्म इंडस्ट्री और अन्य बड़े लोगों के बीच प्रतिस्पर्धा का दौर शुरू हो गया है. इस सूची में अक्षय कुमार का नाम चर्चा में अव्वल चल रहा है. हालाँकिअन्य लोगों की सिफारिशें भी सरकार को भेजी गई है.अब उच्च सदन के लिए उम्मीदवार चयन के मापदंड बदल गए हैं.

बता दें कि व्यवसायी अनु आगा, क्रिकेट खिलाड़ी सचिन तेंडुलकर तथा फिल्म अभिनेत्री रेखा का अगले महीने कार्यकाल खत्म हो रहा है. इन तीन सीटों के लिए अब चुनाव होंगे.इनके प्रमुख दावेदारों में जूही चावला और गजेंद्र चौहान के अलावा अभिनेता सलमान खान के पिता सलीम खान, विवेक ओबेरॉय के पिता सुरेश ओबेरॉय, ऋषि कपूर, जैकी श्रॉफ, वहीदा रहमान, आशा पारेख, मधुर भंडारकर और अनुपम खेर के नामों की भी सिफारिश सरकार पहुँचने की जानकारी मिली है.

गौरतलब है कि अपने छह वर्ष के कार्यकाल में अभिनेत्री रेखा की मौजूदगी नाम मात्र की रही.इस दौरान उन्होंने न तो कभी सदन में कोई प्रश्न पूछा और न ही संसद की कार्रवाई में शामिल हुई. वैसे राज्यसभा सीट को लेकर चल रही अटकलों में अभिनेता अक्षय कुमार को इस बार प्रबल दावेदार माना जा रहा है.बता दें कि अक्षय ने प्रधानमंत्री के स्वच्छता अभियान, शहीद जवानों के लिए धनसंग्रह और शौचालय निर्माण को लेकर दिखाई गई सक्रियता यहां काम आ सकती है.लेकिन अक्षय के साथ कनाड़ा की उनकी नागरिकता इसमें आड़े आ सकती है. यहां यह विषय विचारणीय है, कि उच्च सदन के लिए लोगों का चयन करने का आजकल मापदंड बदल गया है. अब किसी दल विशेष के प्रति दिखाई वफादारी और सहयोग से उम्मीदवार बनाए जाते हैं. इससे राज्य सभा जैसे उच्च सदन की मंशा पूरी नहीं हो रही है, वहीं संविधान की मूल भावना का भी पालन नहीं हो रहा है. जबकि होना तो यह चाहिए कि उच्च सदन में योग्य, विद्वान और तटस्थ व्यक्ति का चयन किया जाना चाहिए, ताकि उनके ज्ञान और सुझाव का लाभ पूरा देश ले सके.

यह भी देखें

23 मार्च से 6 राज्यों में चुनावी महासंग्राम

एक हजार करोड़ की जया बच्चन