नवरात्रि में आसानी से कम कर पाएंगे वजन, जानिए कैसे?

नवरात्रि में आसानी से कम कर पाएंगे वजन, जानिए कैसे?
Share:

चैत्र नवरात्रि व्रत आज, 9 अप्रैल, 2024 से शुरू हो गया है और 17 अप्रैल को नवमी की कन्या पूजा के साथ समाप्त होगा। इस हिंदू त्योहार के दौरान, कई लोग नौ दिन का उपवास रखते हैं, जबकि अन्य केवल पहले और आखिरी दिन का उपवास करना चुनते हैं। जो लोग नवरात्रि व्रत का पालन करते हैं वे 'फलाहारी' नामक आहार का सेवन करते हैं, जिसमें एक प्रकार का अनाज, चौलाई का आटा, साबूदाना, सिंघाड़े का आटा और बरनी बाजरा के आटे से बनी चीजें शामिल होती हैं। इसके अतिरिक्त, आलू, शकरकंद, लौकी, तारो जड़, कद्दू, पालक, खीरा, गाजर और सभी फल फलाहारी आहार का हिस्सा हो सकते हैं।

उपवास रखने के फायदे
नवरात्रि व्रत के दौरान गेहूं, चावल, सूजी, मैदा, दाल और बीन्स का सेवन वर्जित है। उपवास के दौरान फल-आधारित आहार का उचित रूप से पालन करने से स्वस्थ वजन घटाने में सहायता मिल सकती है। इसके अलावा, विशेषज्ञों का मानना है कि उपवास के आध्यात्मिक पहलू से परे भी कई स्वास्थ्य लाभ हैं। शोध से पता चलता है कि उपवास वसा जलने और वजन घटाने में सहायता कर सकता है। इसके अतिरिक्त, उपवास के दौरान सीमित भोजन का सेवन उच्च कोलेस्ट्रॉल, हृदय रोग और उच्च रक्तचाप जैसी स्थितियों में सुधार करने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, उपवास के घंटों के दौरान शरीर द्वारा अनुभव की जाने वाली आराम की स्थिति डिटॉक्स प्रक्रिया की शुरुआत का संकेत देती है, जो आंतों को साफ करने में सहायता करती है।

पूड़ी और पकौड़े की जगह खिचड़ी या रोटी
व्रत के दौरान पूड़ी और पकौड़े जैसे व्यंजनों का सेवन करने के बजाय खिचड़ी या रोटी का विकल्प चुनने की सलाह दी जाती है। यह विकल्प अतिरिक्त कैलोरी सेवन से बचने में मदद करता है। 

आलू फ्राई की जगह उबले हुए आलू
कैलोरी की खपत कम करने के लिए तले हुए आलू की जगह उबले हुए आलू का सेवन किया जा सकता है, या उनकी जगह फलों का सेवन किया जा सकता है।

फल खाएं
उपवास के दौरान फलों का प्रचुर मात्रा में सेवन करना चाहिए क्योंकि वे न केवल आवश्यक विटामिन, खनिज और फाइबर प्रदान करते हैं बल्कि पूरे दिन ऊर्जा के स्तर को भी बनाए रखते हैं। 

जड़ वाली सब्जी खाएं
विटामिन बी, खनिज और फाइबर से भरपूर होने के कारण आलू, शकरकंद, रतालू, कद्दू और तारो जैसी जड़ वाली सब्जियों को अक्सर भोजन में शामिल किया जाता है। हालाँकि, उच्च कैलोरी सामग्री के कारण इनका सेवन कम मात्रा में किया जाना चाहिए।

दूध और डेयरी वाली चीजें खाएं
प्रोटीन और कैल्शियम की जरूरतों को पूरा करने के लिए दूध, दही, छाछ और पनीर जैसे डेयरी उत्पादों को आहार में शामिल किया जा सकता है। 

चाय और कॉफी से बचें
उपवास के दौरान चाय और कॉफी के सेवन से परहेज करके निर्जलीकरण से बचने की सलाह दी जाती है। इसके बजाय, नारियल पानी, नींबू पानी, छाछ, मिल्कशेक या सादा पानी जैसे विकल्पों की सिफारिश की जाती है।

चीनी कम खाएं
उपवास के दौरान, खीर और हलवा जैसे व्यंजनों में प्रसंस्कृत चीनी का उपयोग कम से कम करना सबसे अच्छा है। इसकी जगह मिठास बढ़ाने के लिए खजूर, शहद, दालचीनी और ताजे फलों का उपयोग किया जा सकता है, जबकि सफेद चीनी से बचना चाहिए।

निष्कर्षतः, नवरात्रि व्रत का पालन न केवल सांस्कृतिक और आध्यात्मिक महत्व रखता है, बल्कि सही तरीके से करने पर कई स्वास्थ्य लाभ भी प्रदान करता है। इन आहार दिशानिर्देशों का पालन करके, व्यक्ति नवरात्रि के दौरान एक स्वस्थ और पूर्ण उपवास अनुभव सुनिश्चित कर सकते हैं।

गर्मी में स्किन रैशेज और घमौरियां नहीं करेंगे परेशान, बस अपनाएं ये उपाय

सेहत का आईना हैं हाथ, उभरी हुई नसें देती हैं चेतावनी, जानें वजह और इलाज

ध्यान रखो... युवाओं में तेजी से बढ़ रहा है कैंसर, हर साल 15 लाख से ज्यादा केस!

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -