विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस का क्या है महत्व

विश्व ऑस्टियोपोरोसिस दिवस का क्या है महत्व

20 अक्टूबर को विश्व ओस्टोपोरोसिस दिवस है। इस दिन का उद्देश्य हड्डियों को प्रभावित करने वाले ओस्टोपोरोसिस की रोकथाम, निदान और उपचार के बारे में जागरूकता पैदा करना है। यह स्थिति एक व्यक्ति को ताकत और घनत्व खोने के लिए हड्डी बनाती है। ऑस्टियोपोरोसिस के कारण कमजोर और भंगुर हड्डियां फ्रैक्चर के उच्च जोखिम में हैं। छोटी क्षति से भी फ्रैक्चर हो सकता है। लक्षणों से सावधान रहें, यदि किसी का ध्यान नहीं है और अनियंत्रित है तो आपको दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों में बाधा डाल सकता है।

ऑस्टियोपोरोसिस में योगदान करने वाले कारक हैं:

1. पारिवारिक इतिहास: गैर-परिवर्तनीय जोखिम कारक, पारिवारिक इतिहास वाले व्यक्ति की परिवार श्रृंखला में उच्च जोखिम होता है।

2. आयु: उम्र के साथ हड्डियों का घनत्व कम हो जाता है। वृद्ध व्यक्ति अधिक जोखिम में हैं। आहार में कैल्शियम और विटामिन डी, नियमित व्यायाम स्वस्थ और मजबूत हड्डियों को सुनिश्चित करता है।

3. लिंग: 50 वर्ष की आयु के बाद महिलाओं को पुरुषों की तुलना में अधिक जोखिम होता है।

4. शरीर का वजन: शरीर के वजन या छोटे शरीर के फ्रेम वाले व्यक्ति अधिक जोखिम में हैं। नियमित व्यायाम और स्वस्थ आहार शरीर के वजन को बनाए रखता है।

5. रोग के कारक: सीलिएक रोग, किडनी रोग, कैंसर, सूजन आंत्र रोग, संधिशोथ से ओस्टोपोरोसिस का खतरा बढ़ जाता है।

ओस्टोफोरोसिस के जोखिम से बचने के लिए प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन डी और अन्य आवश्यक पोषक तत्वों के साथ एक संतुलित आहार बहुत आवश्यक है। नियमित व्यायाम उचित काया को बनाए रखने में मदद करता है।

जानिए हरी मिर्च के अद्भुत स्वास्थ्य से जुड़े लाभ

अतिरिक्त 29 मिनट की नींद दे सकती है आपको भरपूर लाभ

भारत में बड़ा कोरोना का आंकड़ा, अब तक इतनी हुई संक्रमितों की संख्या