Share:
5 बाद पड़ा दिल का दौरा फिर भी बच गई महिला, डॉक्टर भी रह गए हैरान
5 बाद पड़ा दिल का दौरा फिर भी बच गई महिला, डॉक्टर भी रह गए हैरान

मुंबई: महाराष्ट्र की आर्थिक राजधानी मुंबई के मुलुंड क्षेत्र की एक घटना हैरान करने वाली है। यहां की रहने वाली एक महिला को पिछले 16 महीनों में 5 बार सील का दौरा पड़ चुका है। महिला को इनके चलते 5 स्टेंट लगवाने पड़े, 6 बार एंजियोप्लास्टी हुई तथा एक बार बाईपास सर्जरी भी हुई। महिला ने बताया कि वह यह जानना चाहती हैं कि आखिर उनके साथ ऐसा क्यों हो रहा है। रिपोर्ट के अनुसार, उन्हें पहली बार सितंबर 2022 में उस समय दिल का दौरा पड़ा था, जब वह जयपुर से मुंबई के बोरिवली लौट रही थीं। 

तत्पश्चात, उन्हें तुरंत रेल प्रशासन की सहायता से अहमदाबाद के एक चिकित्सालय में भर्ती कराया गया था। उन्होंने कहा कि इसके बाद मैंने एंजियोप्लास्टी के लिए मुंबई जाने का ही फैसला लिया। उनका उपचार करने वाले एक डॉक्टर हसमुख रावत ने कहा कि रेखा को आखिर दिल का दौरा क्यों आया, यह अब भी एक रहस्य है तथा इस गुत्थी को सुलझाया नहीं जा सका है। वह अब तक कई चिकित्सकों को दिखा चुके हैं। इनमें से एक ने कहा कि वह एक ऑटो-इम्यून बीमारी की शिकार हैं, जिसके चलते उनकी नलियां कमजोर हुई हैं और दिल का दौरा पड़ा। हालांकि अब तक जो टेस्ट हैं, उनमें कोई ठोस कारण नहीं निकल सका है कि हार्ट अटैक क्यों आए। महिला की पहचान यहां निजता के चलते उजागर नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि हर कुछ महीने के पश्चात् उन्हें हार्ट अटैक आते हैं। इससे पहले उन्हें सीने में तेज दर्द और बेचैनी के लक्षण होते हैं। वह बोलती हैं कि उन्हें इसी वर्ष 4 अटैक आ चुके हैं। एक फरवरी में, दूसरा मई, तीसरा जुलाई और फिर नवंबर में। वह कहती हैं कि इससे पहले भी वह एक बार हार्ट अटैक के केस में ही चिकित्सालय जा चुकी हैं। 

हालांकि एक बात उन्हें स्वयं भी समझ आती है कि यह स्थिति उनकी गंभीर बीमारियों और अधिक वजन के चलते भी हुई है। वह बोलती हैं कि उनका वजन सितंबर 2022 तक 107 किलो था। इसके अतिरिक्त डायबिटीज, हाई कोलेस्ट्रॉल और मोटापे की भी शिकार थीं। तब से अब तक वह अपना वजन 30 किलो घटा चुकी हैं। कहा जा रहा है कि शरीर की ऐसी स्थिति भी हार्ट अटैक्स की वजह हो सकती है। उन्हें कई बार कोलेस्ट्रॉल को घटाने के लिए इंडेक्शन लगवाने पड़े हैं। इसके अतिरिक्त शुगर लेवल भी मेंटेन कर रखा है, मगर हार्ट अटैक उनका पीछा नहीं छोड़ रहे हैं। चिकित्सकों का कहना है कि एक बार एंजियोप्लास्टी होने के पश्चात् कुछ ही महीने में उनके हार्ट में फिर से ब्लॉकेज हो जाती है। पहली बार ही जब महिला को दिल का दौरा पड़ा तो उनके दिल के बायें हिस्से में ब्लॉकेज 90 पर्सेंट तक थी। हालांकि डॉक्टर भी मानते हैं कि वह लकी हैं कि इतने अटैक्स के पश्चात् भी उन्हें बचाया जा सका।

'2024 चुनाव में बीजेपी एक भी सीट नहीं जीतेगी', बोले लालू यादव

'चाय-समोसे तक ही सीमित INDIA गठबंधन की बैठक..', ये क्या बोल गए सीएम नितीश कुमार के सांसद ?

मौलवी ने मजार पर बुलाकर जबरदस्ती हिन्दू परिवार से कबूल करवाया इस्लाम, विरोध करने पर किया बेटी से रेप और फिर...

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -