संसद में मीडिया की एंट्री पर पाबन्दी क्यों ? कांग्रेस नेता खड़गे का राज्यसभा चेयरमैन को पत्र

नई दिल्ली: राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने संसद के अंदर मीडिया के प्रवेश को लेकर उच्च सदन के सभापति और उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू को पत्र लिखा है. उन्होंने संसद में मीडिया के प्रवेश पर से प्रतिबन्ध हटाने की मांग की है. पत्र में कहा गया है कि मीडिया के कुछ लोगों को प्रेस गैलरी में जाने की अनुमति है. जबकि वरिष्ठ मीडियाकर्मी सेंट्रल हॉल नहीं जा पा रहे हैं. उन्हें संसद के सदस्यों से मिलने भी नहीं दिया जा रहा है. नई पाबंदियां लगाई गई हैं जिससे लोकतंत्र के इस मंदिर से मीडिया को पूर्णतः बाहर कर दिया गया है. 

खड़गे ने अपने पत्र में लिखा है कि शीतकालीन सत्र में संसद सियासी गतिविधियों का केंद्र है. ऐसे में सदन में उठाए गए तमाम ज्वलंत मुद्दों को लोगों तक पहुंचाने का कार्य मीडिया ने बहुत ही ज़िम्मेदारी से किया है. इसलिए मीडिया की अहमियत को ध्यान में रखते हुए, संसद में मीडिया को खुले तौर पर एंट्री दी जानी चाहिए. कई वरिष्ठ पत्रकारों और मीडिया संस्थानों ने इस विषय को कई दफा सांसदों और सदन अध्यक्ष के समक्ष रखा है.

उन्होंने कहा कि प्रेस गैलरी में कोरोना प्रोटोकॉल का ध्यान रखते हुए ही पत्रकारों के बैठने का प्रबंध होना चाहिए. हालांकि, पत्रकारों को संसद परिसर के बाहर ही रोक देना और सेंट्रल हॉल और लाइब्रेरी तक न आने देने को स्वीकार नहीं किया जा सकता. उन्होंने सभापति से इस मामले का समाधान करने का आग्रह किया है जिससे मीडिया बिना किसी प्रतिबन्ध के, पहले की तरह ही अपना काम कर सके.

विपक्षी दल अपने दम पर बीजेपी से नहीं लड़ सकते: दिनेश शर्मा

वाजिद अली शाह प्राणी उद्यान के 100 वर्ष हुए पूरे, समरोह में पहुंचकर सीएम योगी ने की इनसे मुलाकात

केरल में राज्यसभा की एक सीट के लिए उपचुनाव

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -