+

JNU के पास वाले ढाबे से मोमोज और बिरयानी लाकर दो : उमर व अनिर्बान

JNU के पास वाले ढाबे से मोमोज और बिरयानी लाकर दो : उमर व अनिर्बान

नई दिल्ली : जेएनयू विवाद को लेकर दिल्ली के एक कोर्ट द्वारा तीन दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजे गए उमर खालिद व अनिर्बान भट्टाचार्य ने पुलिस के सवालों के जवाब देने से पहले तीन चीजों की मांग की। जिसमें सिगरेट, अखबार व कन्हैया कुमार के साथ रहने की मांग शामिल है। इन दोनों को फिलहाल आर के पुरम पुलिस स्टेशन में रखा गया है। सूत्रों के मुताबिक, उमर ने पुलिस को बताया कि वो रेगुलर स्मोकर है। हांलाकि पुलिस ने सिगरेट देने से साफ इंकार कर दिया। इसके बाद उन्होने पुलिस से एक औऱ मांग करके उन्हें हैरानी में डाल दिया।

उन्होने कहा कि उन्हें जेएनयू के पास वाले ढाबे से मोमोज औऱ बिरयानी लाकर दिया जाए। पुलिस ने बताया कि उनकी इस मांग को भी पुलिस ने नकार दिया, लेकिन पुलिस ने उन्हें थाने के पास स्थित ढाबे से खाना लाकर दिया गया और साथ ही उन्हें हिंदी अखबार भी दिया गया।

इंस्पेक्टर के कमरे में दिनभर उनसे पूछताछ की गई। उमर ने देश विरोधी नारे लगाने से इंकार किया, लेकिन उसने कश्मीर की आजादी को लेकर नारेबाजी की बात कबूली। उसने खुलेआम कहा कि वो कश्मीर की आजादी पर विश्वास करता है और इशके लिए लड़ता रहेगा। उमर औऱ अनिर्बान ने वीडियों के सवाल पर कहा कि उसमें ज्यादातर बाहरी लोग थे, इसका पता आप खुद लगाइए।

छात्रों ने विदेशी चंदे की बात को भी झूठलाया है। इसलिए अब पुलिस माओवादी लिंक पर जांच कर रही है। ये छात्र जेल में बंद दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर जी एन साई बाबा के संपर्क में थे। पुलिस ने कन्हैया, उमर व अनिर्बान से पूछे जाने वाले सवालों की लिस्ट भी बना रखी है।