दो ट्रेनों की रफ़्तार 160 किमी कर देने से बचेगा बेशकीमती समय

नई दिल्ली : रेलवे ने हाल ही में दिल्ली और आगरा के बीच 160 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से शुरू की गई गतिमान एक्सप्रेस की सफलता से उत्साहित होकर रेलवे ने दिल्ली-हावड़ा और दिल्ली-मुंबई मार्ग पर यात्रा की अवधि कम करने के उद्देश्य से इन दो ट्रेनों की रफ्तार बढ़ा कर 160 किलोमीटर प्रति घंटा करने की योजना बनाई है जिसकी अनुमानित लागत बेशक दस हजार करोड़ रुपए आएगी लेकिन इस प्रयास से यात्रियों का बेशकीमती समय जरूर बचेगा.

इस बारे में इस परियोजना में शामिल रेलवे मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि 'मिशन रफ्तार योजना' के तहत देश भर में कुल 9 हजार किलोमीटर की प्रमुख रूटों पर चलने वाली ट्रेनों की रफ्तार को 160 किलोमीटर प्रति घंटा करने की दिशा में एक विस्तृत कार्ययोजना तैयार की है. इसकी शुरुआत दिल्ली-मुंबई और दिल्ली-हावडा जैसी दो अत्यंत व्यस्त मार्गों पर काम करने के साथ की है.

बता दें कि रेलवे ने हाल ही मेंं दिल्ली और आगरा के बीच 160 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चलने वाली गतिमान एक्सप्रेस आरम्भ की है. उल्लेखनीय है कि वर्तमान में दिल्ली-हावड़ा रूट पर प्रतिदिन लगभग 120 यात्री ट्रेनें और 100 के करीब मालगाड़ियां चलती है, वहीँ 90 यात्री ट्रेन और इतनी ही मालगाड़ियां रोजाना दिल्ली-मुंबई कॉरिडोर में भी चलती है.

रेलवे अधिकारी ने आगे यह भी बताया कि ‘एक बार इन दो प्रमुख मार्गों पर ट्रेन की रफ्तार बढ़ा कर 160 किलोमीटर प्रति घंटा कर दिया गया, तो इन क्षेत्रों में और अधिक यात्री ट्रेनों को आरम्भ करने की गुंजाइश निकलेगी.' इसके फलस्वरूप कुछ अन्य लोकप्रिय ट्रेनों में यात्रियों की प्रतीक्षा सूची कम हो जाएगी और इसी तरह की सुविधाएं वाली कई अन्य सेवाओं की भी पेशकश की जाएगी. फ़िलहाल रेलवे इसमें आने वाले खर्चे की गणना कर रहा है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -