आज मणिपुर जाएगा 20 विपक्षी सांसदों का प्रतिनिधिमंडल, सरकार और गवर्नर ने दी प्रभावित इलाकों में जाने की अनुमति
आज मणिपुर जाएगा 20 विपक्षी सांसदों का प्रतिनिधिमंडल, सरकार और गवर्नर ने दी प्रभावित इलाकों में जाने की अनुमति
Share:

नई दिल्ली: विपक्षी दलों के गठबंधन INDIA के 20 सांसदों का एक प्रतिनिधिमंडल शनिवार से हिंसा प्रभावित मणिपुर का दो दिवसीय दौरा करेगा। रिपोर्ट्स में बताया गया है कि प्रतिनिधिमंडल जमीनी स्थिति का जायजा लेगा और फिर समाधान के लिए सरकार और संसद को सिफारिशें करेगा। शुक्रवार को नई दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कांग्रेस सांसद नसीर हुसैन ने कहा कि 16 पार्टियों के नेता प्रभावित इलाकों का दौरा करेंगे और घाटी और पहाड़ी दोनों जगहों पर लोगों से मिलेंगे। वे दो राहत शिविरों का भी दौरा करेंगे और स्थिति का आकलन करेंगे।

नासिर हुसैन के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया है कि, "हमें प्रभावित क्षेत्रों और राहत शिविरों का दौरा करने के लिए राज्य सरकार से अनुमति मिल गई है। हमें राज्यपाल से मिलने की भी अनुमति मिल गई है, जिन्होंने प्रतिनिधिमंडल को रविवार को समय दिया है।" बता दें कि, प्रतिनिधिमंडल में कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी, के सुरेश और गौरव गोगोई, TMC की सुष्मिता देव, JMM की महुआ माजी, DMK की कनिमोझी, NCP के मोहम्मद फैजल, RLD के जयंत चौधरी, RJD के मनोज कुमार झा, RSP के एनके प्रेमचंद्रन, VSK के टी तिरुमावलवन शामिल होंगे। JDU प्रमुख राजीव रंजन (ललन) सिंह, JDU के अनिल प्रसाद हेगड़े, CPI के संतोष कुमार, CPI (M) के एए रहीम, समाजवादी पार्टी के जावेद अली खान, IUML के मोहम्मद बशीर, AAP के सुशील गुप्ता , अरविंद सावंत (शिवसेना-उद्धव ठाकरे), डी रविकुमार (DMK), और कांग्रेस की फूलो देवी नेताम शामिल हैं।

यात्रा के बारे में बताते हुए, शिवसेना (यूबीटी) सांसद अरविंद सावंत ने कहा कि, “हमारी योजना समुदायों के बीच शांति और सद्भाव लाने की है। मणिपुर भारत का एक राज्य है और अब प्रधानमंत्री को 'INDIA' शब्द से ही गंभीर आपत्ति है। उन्हें राजनीति खेलने दीजिए। फिलहाल जरूरत शांति बनाए रखने की है।' उन्होंने कहा कि, मणिपुर की स्थिति देखना वाकई निराशाजनक है। सरकार को गंभीरता से संज्ञान लेना होगा जो नहीं लिया जा रहा है। राज्य सरकार लगभग पंगु हो गयी है, केंद्र की ओर से राष्ट्रपति शासन लगाने की कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। हम, विपक्षी दल, देशभक्त दल हैं और देशभक्त के रूप में, हमें समुदायों को एक साथ लाने का प्रयास करना चाहिए।

विपक्षी गुट को न केवल चुनाव के लिए बल्कि लोगों की आवाज उठाने के लिए गठबंधन करार देते हुए, सीपीआई सांसद पी संतोष कुमार ने कहा, “यह दो दिवसीय यात्रा होगी और हम जितना संभव हो उतने शिविरों और प्रभावित क्षेत्रों को कवर करने का प्रयास करेंगे।” AAP सांसद सुशील गुप्ता ने कहा कि, मणिपुर में स्थिति खराब है। सरकार न तो हिंसा पर काबू पा रही है और न ही संसद में इस पर चर्चा करना चाहती है। INDIA, पूरा विपक्ष नियम 267 के तहत चर्चा की मांग कर रहा है। लेकिन सरकार चर्चा से भाग रही है। हम पीएम के बयान की मांग कर रहे हैं लेकिन वह संसद में नहीं आ रहे हैं। इसलिए, यह निर्णय लिया गया कि हम मणिपुर जाएंगे, इसकी वास्तविक स्थिति का आकलन करेंगे और इसे देश के सामने पेश करेंगे।'' विशेष रूप से, यह दौरा विपक्ष द्वारा हिंसा प्रभावित मणिपुर की स्थिति पर संसद में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से एक बयान देने और उसके बाद इस पर पूर्ण चर्चा की मांग के मद्देनजर हो रहा है।

जयपुर से एक और नाबालिग लड़की जा रही थी पाकिस्तान, CISF ने पकड़ कर पुलिस को सौंपा

'CM योगी से बुलडोज़र किराए पर ले लो..', बंगाल में अवैध निर्माण और गुंडागर्दी पर सख्त हुआ कोलकाता हाई कोर्ट

असम के सभी जिलों से हटेगा AFSPA ! सीएम सरमा ने पुलिस को दिए ये निर्देश

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -