मानसून में स्किन पर हो जाते हैं रेशेस, बचने के लिए जानें क्या हैं तरीके

मानसून में स्किन पर हो जाते हैं रेशेस, बचने के लिए जानें क्या हैं तरीके

बारिश का मौसम अपने साथ कुछ बीमारी भी लेकर आता है. बारिश के मौसम में स्किन से जुड़ी कई परेशानियां होती हैं जिन पर ध्यान देना भी बेहद जरुरी होता है. इनका होना किसी को भी परेशान कर सकता है, इसलिए इनका तुरंत उपचार भी जरूरी है. चलिए जानते हैं बारिश में आमतौर पर होने वाली स्किन प्रॉब्लम्स और उनके ट्रीटमेंट के बारे में. अगर आपको भी ये परेशानी हो तो तुरंत करवा लें इलाज 

एक्जिमा
स्किन से जुड़ी इस बीमारी के बारिश के मौसम में होने की आशंका बढ़ जाती है. इससे स्किन पर रैश, खुजली और रेडनेस होने लगती है. कई मामलों में इसमें जलन भी होती है. ऐसे लोग जिनकी सेंसेटिव स्किन है उन्हें इस इंफेक्शन के होने का ज्यादा चांस होते हैं. 

खाज 
स्कैबीज या खाज एक संक्रामक बीमारी है. यह इंफेक्शन त्वचा में घुन के प्रवेश कर जाने के कारण होता है. यह घुन त्वचा में घोंसला बना लेती है और उसमें अंडे देती है जिससे संक्रमण बढ़ता जाता है. खाज होने पर त्वचा पर खुजली होने, छेद सा बन जाने, गांठ पड़ने जैसी समस्याएं आती हैं.  

ऐथ्लीट्स फुट 
यह एक फंगल इंफेक्शन होता है, जो दूसरे व्यक्ति को भी फैल सकता है. ऐथ्लीट्स फुट ज्यादातर पैर के गीले बने रहने के कारण होता है. जूते में नमी के साथ ही अंधेरा होता है जो फंगस के पनपने के लिए परफेक्ट जगह होती है. ऐथ्लीट्स फुट के होने पर पैर में कट या घाव भी हो सकते हैं. 

इन स्किन प्रॉब्लम्स से ऐसे बचें 
- अपने कपड़ों और जूतों को साफ रखें. 

- शरीर,कपड़े व जूतों को सूखा रखें. 

- बारिश में भीग जाने पर घर आकर जरूर नहाएं. 

- दूसरों के कपड़े व जूतों का इस्तेमाल करने से बचें. 

- बारिश में ऐंटीबैक्टीरियल साबुन का उपयोग करें. 

- पाउडर का इस्तेमाल करें ताकि नमी सोखी जा सके. 

- बिना धुले कपड़े या मोजे न पहनें. 

- स्पोर्ट्स शूज पहनते हों तो उन्हें वॉश जरूर करें. 

मानसून में पैरों को होती अधिक देखभाल की जरूरत, जानें टिप्स

क्या आप जानते हैं मेहंदी लगाने के लाभ!

5 पौधे जो मच्छरों को रख सकते हैं आपके घर से दूर