घर में रखी ये चीज बढ़ा रही है कैंसर का खतरा, स्टडी में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

घर में रखी ये चीज बढ़ा रही है कैंसर का खतरा, स्टडी में हुआ चौंकाने वाला खुलासा
Share:

संयुक्त राज्य अमेरिका में किए गए एक अध्ययन के अनुसार, घरों में एयर कंडीशनर और रेफ्रिजरेटर से निकलने वाली गैसों की मौजूदगी से कई बीमारियों का खतरा बढ़ रहा है। अध्ययन से यह भी पता चलता है कि इन गैसों के प्रभाव से कैंसर, मलेरिया, मोतियाबिंद और त्वचा रोग जैसी गंभीर बीमारियों के रोगियों की संख्या में वृद्धि हो रही है।

अध्ययन में शोधकर्ताओं ने खुलासा किया कि एयर कंडीशनर और रेफ्रिजरेटर में हाइड्रोक्लोरोफ्लोरोकार्बन (एचसीएफसी) गैसें होती हैं, जो वायुमंडल में उत्सर्जित होती हैं। ये गैसें एल्युमीनियम प्रसंस्करण के दौरान बड़ी मात्रा में उत्पन्न होती हैं और पृथ्वी के वायुमंडल में 50,000 वर्षों तक बनी रह सकती हैं। इनका जलवायु पर, विशेषकर ओजोन परत पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है। इन उपकरणों से निकलने वाली क्लोरीन गैस ओजोन में तीन ऑक्सीजन परमाणुओं में से एक के साथ प्रतिक्रिया करती है। एचसीएफसी गैसों का एक अन्य घटक फ्लोरीन एक लाख ओजोन अणुओं को नष्ट कर सकता है। परिणामस्वरूप, ओजोन परत पतली होती जा रही है, जिससे बीमारियों में वृद्धि हो रही है।

तटीय इलाकों के पास रहने वाले लोगों को अधिक खतरा है। अध्ययन से संकेत मिलता है कि समुद्र तट के पास रहने वाली आबादी इस घटना से सबसे अधिक प्रभावित होगी। ओजोन परत को अक्सर पृथ्वी की सुरक्षा कवच और पर्यावरण सुरक्षा के रूप में जाना जाता है। यदि ओजोन परत काफी पतली हो जाती है, तो पृथ्वी पर जीवन और अधिक चुनौतीपूर्ण हो सकता है। जैसे-जैसे ओजोन परत घटती है, सूर्य से हानिकारक पराबैंगनी किरणें पृथ्वी की सतह तक आसानी से पहुंच सकती हैं, जिससे गंभीर बीमारियों में वृद्धि हो सकती है। समुद्री जीवन लुप्त हो रहा है, ग्लेशियर पिघल रहे हैं। शोधकर्ता इस बात पर जोर देते हैं कि ओजोन परत को नुकसान पहुंचने से हानिकारक पराबैंगनी किरणों का सीधा असर समुद्री जीवन पर पड़ता है। हानिकारक यूवी किरणों के बढ़ते प्रवेश के कारण कई समुद्री प्रजातियाँ विलुप्त होने का सामना कर रही हैं। इसके अलावा, ग्लेशियरों के तेजी से पिघलने को लेकर चिंता बढ़ रही है, जिसका मुख्य कारण अंटार्कटिका के ऊपर ओजोन परत में बड़ा छेद है। इससे तटीय इलाकों के जलमग्न होने का खतरा बढ़ गया है.

यूरोपीय देशों ने प्रतिबंध लगा दिए हैं. यूरोप में, इन गैसों के उपयोग को धीरे-धीरे समाप्त करने के उपाय 2023 की शुरुआत से लागू किए गए हैं। इन गैसों के व्यक्तियों के स्वास्थ्य पर गंभीर परिणाम होते हैं। परिणामस्वरूप, यूरोपीय संघ के सभी 27 सदस्य देशों के बीच 2050 तक इन गैसों के उपयोग पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने पर सहमति बनी है। ओजोन परत की खोज 1913 में फ्रांसीसी वैज्ञानिक चार्ल्स फैब्री और हेनरी बुइसन ने की थी। ब्रिटिश मौसम विज्ञानी जी.एम.बी. डॉब्सन ने 1928 और 1958 के बीच ओजोन परत, जो नीली गैस से बनी है, के गुणों पर व्यापक शोध किया। इस अवधि के दौरान, डॉब्सन ने दुनिया भर में ओजोन परत के लिए निगरानी केंद्रों का एक नेटवर्क स्थापित किया। उनके सम्मान में ओजोन मात्रा मापने की इकाई का नाम डॉब्सन इकाई रखा गया।

संक्षेप में, घरों में एयर कंडीशनर और रेफ्रिजरेटर से एचसीएफसी गैसों की बढ़ती उपस्थिति मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए एक महत्वपूर्ण खतरा पैदा करती है। ये गैसें ओजोन परत के क्षरण में योगदान करती हैं, जिससे कई गंभीर बीमारियाँ और पर्यावरणीय चुनौतियाँ पैदा होती हैं। सरकारों और व्यक्तियों के लिए इन गैसों के उपयोग को कम करने और ओजोन परत की रक्षा के लिए कार्रवाई करना महत्वपूर्ण है, जो पृथ्वी पर जीवन की सुरक्षा के लिए आवश्यक है।

मात्र 1 महीने ऐसे करें इसबगोल की भूसी का सेवन, कम हो जाएगा मोटापा

दांत दर्द ने ख़राब कर दी है हालत तो अपनाएं ये घरेलू उपाय, मिलेगा आराम

बच्चों की आंखों के स्वास्थ्य के लिए स्क्रीन समय को संतुलित करना

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -