कैदी ने निगल गया फ़ोन, फिर जो हुआ वो कर देगा हैरान
कैदी ने निगल गया फ़ोन, फिर जो हुआ वो कर देगा हैरान
Share:

पटना: जेल में बंद कैदियों के समीप अक्सर फोन मिलने की घटनाएं सामने आती हैं। जेल पुलिस की साठगांठ या फिर पुलिसकर्मियों की निगाहों से छुपाकर जेल में बंद कैदी मोबाइल फोन ऑपरेट करते रहते हैं। ऐसा ही मामला बिहार के गोपालगंज मंडल कारा (जेल) से सामने आया है। यहां पर मादक पदार्थ तस्करी मामले में सजा काट रहे कैदी के समीप मोबाइल फोन था। सिपाही के डर से छुपाने के लिए उसने जल्दबाजी में मोबाइल फोन निगल लिया। 

वही कुछ ही देर पश्चात् उसकी तबीयत बिगड़ गई। चिकित्सालय में एक्स-रे करने पर उसके पेट में मोबाइल फोन स्पष्ट दिखाई दिया। फिलहाल कैदी कैशर अली का सदर चिकित्सालय में उपचार जारी है। खबर के अनुसार, गोपालगंज मंडल कार में हैरतअंगेज मामला सामने हुआ। कैशर अली नाम के का कैदी यहां मादक पदार्थ तस्करी केस में जेल की सजा काट रहा है। वह जेल में बंद रहते हुए मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर रहा था। शनिवार की रात को जब वह मोबाइल फोन चला रहा था उसी वक़्त ड्यूटी पर तैनात सिपाही आ गया।

सिपाही को आता देख कैशर अली घबरा गया एवं उसने मोबाइल फोन निगल लिया। कुछ ही देर बार उसके पेट में भयंकर दर्द आरम्भ हो गया। उसने जेल प्रशासन से पेट में दर्द होने की बात कही साथ ही बताया कि उसने मोबाइल फोन निगल लिया है। यह बात सुनकर जेल प्रशासन के भी कान खड़े हो गए। आनन-फानन में उसे सदर चिकित्सालय में उपचार के लिए लाया गया। यहां एक कैदी ने पकड़े जाने के भय से मोबाइल फोन निगल गया। पेट में खतरनाक दर्द होने पर उसे सदर चिकित्सालय के इमरजेंसी वार्ड में शनिवार की रात को भर्ती कराया गया। जब चिकित्सकों ने उसकी जांच की तब उसके पेट से एक फॉरेन पार्टीकल मिला है। सदर चिकित्सालय के इमरजेंसी वार्ड में तैनात चिकित्सक डॉ। सलाम सिद्दीकी ने बताया कि मंडल कारा से कैदी कैशर अली को पेट दर्द की शिकायत होने के बाद लाया गया था। उसके पेट का एक्स-रे कराया गया तो उसमें फॉरेन पार्टीकल होने की पुष्टि हुई। पूछने पर सामने आया कि उनसे पकड़े जाने के डर से मोबाइल फोन निगल लिया था। कैदी कैशर अली ने बताया कि मेरे पास मोबाइल फोन था। सिपाही के भय से मोबाइल को निगल लिय। उसके कुछ वक़्त के पश्चात् पेट में तेज दर्द हुआ। जेल प्रशासन ने सदर चिकित्सालय में लाकर भर्ती कराया है, जहां उपचार चल रहा है। प्राप्त हुई खबर के मुताबिक, कैशर अली के पिता का नाम बाबुजान मियां है एवं वह इंरदवा रफी गांव का रहने वाला है। 17 जनवरी 2020 को कैशर को हजियापुर गांव के समीप से स्मैक (मादक पदार्थ) के साथ पुलिस ने गिरफ्तार किया था। अदालत ने उसे जेल की सजा सुनाई थी। तभी से वह मंडल कारा में बंद है।

'मनीष सिसोदिया की गिरफ्तारी हुई तो बड़े-बड़े', CBI के समन पर आया AAP का बयान

मांग में भरा सिंदूर, चूड़ी पहनाई और फिर प्रेमी जोड़े ने लगा लिया मौत को गले, मची सनसनी

'शिवसेना नाम के लिए हुई 2 हजार करोड़ की डील', इस नेता ने लगाया बड़ा आरोप

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -