लहसुन की माला पहनकर कलेक्टर ऑफिस पहुंचे किसान, खुलेआम सरकार को दे डाली ये चेतावनी

देवास: मध्य प्रदेश में लहसुन के निरंतर कम हो रहे दाम किसान को परेशान कर रहे है। इस बार लहसुन का उत्पादन ज्यादा हुआ लेकिन कीमतें अपेक्षानुसार नहीं है, इस वजह से किसान चिंतित है क्योंकि लागत तक नहीं निकल पा रही। इसको लेकर किसान अब सरकार से गुहार लगा रहे हैं। देवास में किसानों ने बाइक रैली निकाली तथा लहसुन की माला पहनकर विरोध प्रदर्शन किया।

दरअसल, लहसुन के निरंतर कम होते दामों पर रोक लगाने एवं लहसुन के समर्थन मूल्य की मांग को लेकर युवा किसान संगठन द्वारा बाइक रैली निकालकर ज्ञापन सौंपा गया। संगठन अध्यक्ष रविन्द्र चौधरी ने कहा कि ग्राम राजोदा से युवा किसान संगठन के तत्वावधान में 200 से ज्यादा किसान बाइक रैली के जरिए निकले। खेताखेड़ी, बरखेड़ा, नापाखेड़ी, हांपाखेड़ा, सिरोलिया, केलोद, बड़ा टिगरिया, छापरी, छोटा टिगरिया, कुमारिया, पारवती पुरा, नगोरा, सुकलिया, सुनवानी ,शिप्रा, लोहार पिपलिया होते हुए कलेक्टर दफ्तर पहुंचे। जहां पदाधिकारियों व किसानों ने सीएम के नाम कलेक्टर दफ्तर में ज्ञापन सौंपा। इस के चलते किसानों ने लहसुन की माला पहनी तथा विरोध जताया।

आगे संगठन अध्यक्ष चौधरी ने कहा कि यदि देश के दुश्मन चीन व अन्य देश इरान से लहसुन के आयात पर तत्काल पाबंदी नहीं लगाई गई व ओपन ट्रेड (मुक्त बाजार) के नियम में सुधार नहीं किया गया तो किसानों को भारी हानि का सामना करना पड़ेगा। यदि किसान को आर्थिक घाटा हुआ तो इसका खामियाजा राज्य के सत्ताधारी दल को आगामी पंचायत चुनाव में उठाना पड़ेगा। किसानों की मांग है कि लहसुन में सरकार मुक्त व्यापार समझौता (फ्री ट्रेड एग्रीमेंट्स) बंद करें। चाइना, इरान व अन्य किसी भी देश से लहसुन के आयात पर पूर्ण तौर पर पाबंदी लगाई जाए। लहसुन को एमएसपी (MSP) की सूची में सम्मिलित कर 8000 रुपये प्रति क्विंटल का भाव सुनिश्चित करें। 

1 माह तक बढ़ा छत्तीसगढ़ से गुजरने वाली 34 ट्रेनों का निरस्तीकरण, CM बघेल ने बताया षड्यंत्र

भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को आतंकवाद विरोधी पैनल का प्रस्ताव दिया

विवाह समारोह में पहुंचे लोगों की हुई बुरी हालत, एक के बाद एक 330 लोग हुए बीमार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -