मैं सही हूँ और फिर किया बेफ़कूफी भरा कारनामा

लोग खुद को सही साबित करने के लिए क्या-क्या नहीं कर जाते और इसका नमूना पेश किया है अमेरिका के एक शख्स ने. इस शख्स ने अपनी बात को सही साबित करने के लिए जो किया वो काफी हास्यप्रद था. 

दरअसल, अमेरिका में शनिवार को 61 साल के मैड माइक ह्यूग्स ने पृथ्वी को चपटी साबित करने की कोशिश में हैरतअंगेज़ कारनामा कर दिखाया. उन्होंने घर में तैयार किये रॉकेट में बैठकर अंतरिक्ष की उड़ान भर दी पर रॉकेट 571 मीटर की ऊंचाई पर जाकर बोल गया और फिर उन्होंने अपनी जान बचाने के लिए जमीन पर छलांग लगा दी. हालाँकि पैराशूट की सहायत से माइक जमीन पर सुरक्षित आ गए और इस दौरान उनको मामूली चोट भी लग गयी. 

बुजुर्ग माइक पेशे से लिमोसिन कार चालक हैं और वह विज्ञान की मान्यताओं पर विश्वास नहीं करते. उनका मानना है कि पृथ्वी गोल नहीं बल्कि चपटी है और अपनी इस मान्यता को सही साबित करने के लिए माइक ने कई वर्षों की मेहनत से घर पर ही स्टीम से चलने वाला रॉकेट तैयार किया. 

माइक के मुताबिक, करीब साढ़े तीन सौ मील प्रति घंटा की रफ्तार से यह रॉकेट आकाश की ओर ब़़ढा लेकिन कुछ ही मिनट बाद इसका संतुलन बिग़़ड गया और वह नीचे की ओर आने लगा तभी उन्होंने इसके बाहर छलांग लगा दी.

यह हैरतअंगेज़ कारनामा करने बाद माइक पूरी दुनिया में सुर्खियां में आ गए जिसमें उनकी जान भी जा सकती थी पर वो अपनी जान बचाने में कामयाब रहे. 

सूमो फाइट के ऐसे तथ्य, जो आपको हैरान कर देंगी

यहाँ दी जाती है चुड़ैल बनने की शिक्षा

खतरनाक जानवरों से अजीबोगरीब मित्रता

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -