तेलंगाना में ऑनलाइन कक्षाओं में पढ़ाई करना हो रहा है मुश्किल

तेलंगाना: ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले छात्रों के लिए पढ़ाई हमेशा से एक चुनौती भरा रहा है. हालांकि, डिजिटलीकरण के बाद, यह देखा गया कि अध्ययन का पैटर्न भी बदल गया है. अभी यह किसी के हाथ के टिप्स पर उपलब्ध है लेकिन अभी भी ग्रामीण क्षेत्रों में खराब नेटवर्क कनेक्टिविटी के कारण छात्रों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

ऐसी ही एक खबर तब आई जब सफा ज़रीन नेटवर्क कनेक्टिविटी प्राप्त करने के लिए 2 किमी की दूरी तय करने का फैसला किया,  ताकि वह ऑनलाइन कक्षाओं का उपयोग कर सके, निर्मल गर्ल्स स्कूल जो एक संस्था का संचालन कर रही है. और तेलंगाना अल्पसंख्यक आवासीय स्कूल द्वारा प्रदान छात्रों की सहायता कर रही है.  ज़रीन सातवीं कक्षा की छात्रा है. जो राजौरा में रहती है. जब तेलंगाना अल्पसंख्यक आवासीय शैक्षिक संस्थान सोसायटी (TMREIS) ने ऑनलाइन कक्षाएं आयोजित किया, लेकिन गर्ल कनेक्टिविटी मुद्दे की वजह से यह उपयोग नहीं किया सका. जिसकी वजह से कई कई छात्रों को मुसीबतों का समाना करना पद रहा है. ज़रीन डॉक्टर बनना चाहती है और इसीलिए उसने अधिकारियों से कनेक्टिविटी के मुद्दे को ठीक करने के लिए भी कहा, यदि संभव हो तो.

ऑनलाइन कक्षाएं टीएमआरईआईएस टीम द्वारा संचालित की जा रही हैं. टीम ने अपने सभी शिक्षकों को शामिल किया है और उनकी मदद से वे जूम ऐप पर एक अच्छी क्लास का संचालन कर रहे हैं. इसके अलावा व्हाट्सएप और यूट्यूब प्लेटफॉर्म का भी इस्तेमाल उन छात्रों की मदद के लिए किया जाता है जो ऐसे इलाकों में रह रहे हैं, जहां नेटवर्क कनेक्टिविटी का लगातार मुद्दा बना हुआ है.

24 घंटे में मिले कोरोना के 90 हजार से ज्यादा मरीज, 42 लाख के पार पहुंचा आंकड़ा

तेलंगाना में सड़क दुर्घटना के मामले एक साल में हुई इतनी मौतें

सचिन पायलट का राजनीतिक करियर रहा है बहुत ही दिलचस्प, जाने कुछ अनसुने किस्से

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -