लालू-राबड़ी के नाम की अगरबत्ती बेचने लगे तेजप्रताप यादव, क्या राजनीति से हो गया मोहभंग ?

पटना: LR अगरबत्ती यानी लालू-राबड़ी अगरबत्ती की खुशबू अब पूरे देश में फैलेगी। लालू-राबड़ी के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव अब कारोबारी भी बन गए हैं। दरअसल, तेजप्रताप ने अगरबत्ती का कारोबार शुरू किया है। पटना और दानापुर के नजदीक लालू खटाल में इसका शोरूम स्थापित किया गया है। लालू खटाल का मतलब लालू की गौशाला से है। वहां बड़ी तादाद में लालू प्रसाद, गाय और भैंस रखते हैं। सत्ता में रहने के दौरान मुख्यमंत्री आवास में भी लालू प्रसाद का खटाल स्थित था।

इसी खटाल में अगरबत्तियां बनाई जाती हैं और शोरूम से बेची जाती हैं। हालांकि, तेजप्रताप हमेशा शोरूम में नहीं बैठते, कभी-कभी आते हैं, किन्तु यहां लगे CCTV कैमरे से वे हमेशा मोबाइल के माध्यम से निगरानी करते रहते हैं। शोरूम में कौन आया, कौन गया इस सब की जानकारी उन्हें खूब रहती है। इसके साथ ही वे, कितनी अगरबत्तियां बनीं और कितनी बेचीं गईं, इस बारे में भी तेजप्रताप पूरी जानकारी रखते हैं।  

बता दें कि तेज प्रताप यादव अपनी पूजा-पाठ के लिए अक्सर सुर्ख़ियों में रहते हैं। ललाट पर त्रिपुंड लगाते हैं। कभी कृष्ण का वेश में नज़र आते हैं, तो कभी शिव के रूप में दिखाई देते हैं। वे आए दिन वृंदावन आश्रम जाते रहते हैं। लालू प्रसाद को जल्द जमानत मिले इसलिए तेजप्रताप ने वृंदावन आश्रम के प्रवचनकर्ता से पटना में सात दिनों का प्रवचन भी करवाया था। वे खुद को सियासत में छोटे भाई तेजस्वी यादव का कृष्ण बताते हैं और तेजस्वी को अर्जुन।

कभी चाय के बागानों में मजदूरी करने वाले जॉन बारला बने मोदी सरकार में मंत्री, बेहद संघर्षपूर्ण है कहानी

देश के नए कानून मंत्री किरेन रिजिजू ने संभाला पदभार, क्या Twitter पर कस पाएंगे नकेल ?

'बिक चुके महाराज अब एयर इंडिया को बेच देंगे...' ज्योतिरादित्य सिंधिया पर कांग्रेस ने जताई आपत्ति

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -