स्कूल न जाने पर शिक्षक ने की पिटाई तो, करना पड़ा जान से समझौता

मुजफ्फरपुर : एक शिक्षक को अपने विद्यार्थी को पीटना महंगा पड़ गया। विद्यार्थी को पीटे जाने पर विद्यार्थी के परिजन ने उसे आग के हवाले कर दिया। हालात ये थे कि छात्र की पिटाई से परिजन आक्रोशित हो उठे और उन्होंने विद्यार्थी की पिटाई करने वाले शिक्षक के शरीर पर पैट्रोल छिड़ककर आग लगा दी। शिक्षक का शरीर करीब 80 प्रतिशत तक झुलस गया था। मिली जानकारी के अनुसार स्कूल संचालक और शिक्षक केशव कुमार को स्कूल में पढ़ने वाले विद्यार्थी आशीष के परिजन ने पैट्रोल डालकर जला दिया।

शिक्षक के कपड़ों में आग लगते ही वह चीख उठा। उसने जमीन पर लेटकर आग बुझाने का प्रयास किया, इस प्रयास के बाद उसने अपने घर की ओर दौड़ लगा दी। जब वह चीखते हुए घर के पास पहुंचा तो आसपास के लोगों और परिजन ने उसकी चीख सुनकर उसके शरीर पर लगी आग बुझाने का प्रयास किया। मगर तब तक वह काफी झुूलस गया था। झुलसी हुई हालत में उसे एसकेएमसीएच चिकित्सालय में भर्ती किया गया। हालत बिगड़ने पर उसे पीएमसीएच रैफर कर दिया गया।

शिक्षक को बर्न यूनिट में चिकित्सा दी जा रही है लेकिन शिक्षक बुरी तरह से झुलस गया है। शिक्षक केशव कुमार क्षेत्र में अपना स्कूल संचालित करता है और वह स्कूल में शिक्षक भी है। गुरूवार सुबह जब केशव कुमार स्कूल की ओर जा रहे थे उस दौरान उन्होंने छात्र आशीष को खेलते हुए देखा। ऐसे में उन्होंने आशीष को डांट लगाई और उसे स्कूल आने के लिए कहा। मगर आशीष पर इस बात का असर नहीं हुआ तब शिक्षक ने उसे तीन से चार डंडे मार दिए और अपने साथ स्कूल ले गए। इसके बाद जब स्कूल संचालक केशव कुमार भोजन करने के बाद स्कूल में विश्राम करने पहुंचे तो इसी दौरान रात्रि करीब 11.30 बजे जब उनकी नींद टूटी तो उन्होंने आग से जलन का अनुभव किया।

जब तक वे स्थिति समझ पाते और वहां से बाहर निकल पाते उनके शरीर ने आग पकड़ ली थी। जब वे कमरे से बाहर निकले तो छात्र आशीष कुमार के पिता राममूर्ति प्रसाद, धीरज कुमार भागते हुए नज़र आए आरोपियों के हाथ में एक डिब्बा भी था। आरोपी घटना के बाद से ही फरार हैं। पुलिस ने इस मामले में जांच प्रारंभ कर दी हैं।

Most Popular

- Sponsored Advert -