'जन आक्रोश रैली' की सफलता से गदगद हुई कांग्रेस

आज राहुल गाँधी के नेतृत्व में कांग्रेस की दिल्ली में पहली बार रैली थी, जैसे कि रैली से पहले दावा किया गया था कि यह ऐतिहासिक रैली होने वाली है, कुछ ऐसा ही नजारा आज दिल्ली के रामलीला मैदान पर दिखाई दिया. राहुल गाँधी जहाँ रैली में काफी आक्रामक नजर आए थे, वहीं सोनिया गाँधी और डॉ. मनमोहन सिंह ने भी मौजूदा सरकार पर जमकर हमला बोला है.

काफी समय से ठंडी दिख रही कांग्रेस के भीतर आज दिल्ली की तपती गर्मी में भी काफी जोश देखा गया, एक और जहाँ राहुल गाँधी अपने भाषण के दौरान काफी गरम देखे गए है वहीं कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में भी जोश देखा गया.

मनमोहन सिंह और सोनिया गाँधी जब भाषण देने मंच पर आए थे तो दोनों ने अपने भाषण को काफी सिमित रखा ताकि राहुल गाँधी अपने भाषण को अच्छे से समय दे सके. 

मनमोहन सिंह ने अपने भाषण में बेरोजगारी, महंगाई और लोकतांत्रिक संस्थाओं की स्वतंत्रता पर उठते सवालों का ज़िक्र किया और मौजूदा सरकार पर अपने तर्कों के साथ आरोप लगाए.  सोनिया गाँधी ने अपने भाषण में देश में बदलाव की लहर की बात की, और 2019 में फिर से सत्ता परिवर्तन पर भरोसा जताया है. 

हालाँकि इस रैली के बाद 2019 में देश में सत्ता का परिवर्तन होगा या नहीं इस बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता लेकिन फिर भी एक विपक्ष की हैसियत से लोकतान्त्रिक देश में बेहद जरुरी है कि विपक्ष की आवाज़ भी बुलंद हो, मोदी सरकार पर लोगों ने काफी भरोसा किया था जिसके बाद कई मायनों में मोदी सरकार देश के लोगों के भरोसे पर खरा नहीं उतर पाई है. 

बड़े दिनों बाद मोदी सरकार पर जमकर बरसीं सोनिया गांधी

'जन आक्रोश' नहीं यह 'परिवार आक्रोश रैली' है : अमित शाह

भ्रष्टाचारी को मुख्यमंत्री बनाकर मोदी भ्रष्टाचार दूर करेंगे: राहुल गांधी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -