आध्यात्मिक गुरु दादा वासवानी ने 99 वर्ष की उम्र में कहा दुनिया को अलविदा

Jul 12 2018 01:12 PM
आध्यात्मिक गुरु दादा वासवानी ने 99 वर्ष की उम्र में कहा दुनिया को अलविदा

नई दिल्ली : देश के तमाम लोगों को आध्यात्म की राह दिखने वाले मशहूर आध्यात्मिक गुरु दादा वासवानी ने आज 99 वर्ष की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया. दादा वासवानी साधु वासवानी मिशन के प्रमुख थे. उन्हें दुनिया दादा जे पी वासवानी के नाम से भी जानती है. बताया जा रहा है दादा वासवानी पिछले लंबे समय से कई बीमारियों से ग्रसित थे, जहां वे आज जिंदगी की जंग हार कर सदा के लिए हम सभी को अलविदा कह गए. 

साधु वासवानी मिशन की एक सदस्य ने इस सम्बन्ध में जानकारी दी. मिशन की एक सदस्य से मिली जानकाट्री के मुताबिक, दादा को बीते दिनों ही बीमारी के चलते एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां उन्हें बीती रत अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया. लेकिन इसके बावजूद आज सुबह मिशन के परिसर में उन्होंने अंतिम सांस ली. 

प्राप्त मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अगले माह दादा वासवानी अपने जीवन के 100 वसंत पूर्ण करने वाले थे. और इसके लिए तैयारियों की योजना भी बनाई जा रही थी. बता दे कि भाजपा के कई वरिष्ठ नेता दादा वासवानी से मुलाक़ात कर चुके थे. पीएम मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और लालकृष्ण आड़वाणी भी दादा से मिले थे. आड़वाणी लगातार मिशन में जाते रहते थे. पीएम मोदी ने गत वर्ष उनके 99वें जन्मदिन पर कहा था कि निस्वार्थ भावना से देश के लोगों के लिए काम किया है. वासवानी के विचारों पर चर्चा करते हुए पीएम ने कहा था कि यदि व्‍यक्ति सही विकल्‍प तैयार करने का संकल्‍प लेता है तो भ्रष्‍टाचार, जातिवाद, नशाखोरी, अपराध आदि जैसी बुराइयों को समाप्‍त किया जा सकता है.'

देश की महिलाएं कुछ भी करने में सक्षम : पीएम मोदी

8 साल पहले ही मर चुके होते डॉ. हाथी, काम ना मिलने के डर से बढ़ाया वजन

सेना ने लिया शहीद जवान का बदला, मुठभेड़ में 1 आतंकी ढ़ेर

?