सूर्य ग्रहण-शनि अमावस्या: इन सरल उपायों से शांत होंगे दोनों ग्रह

आज साल 2021 के आखिरी महीने दिसंबर की 4 तारीख को सूर्य ग्रहण और शनि अमावस्या एक साथ है। आप सभी को बता दें कि आज सूर्य ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा, और इस वजह से इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा। हालाँकि इस ग्रहण का प्रभाव सभी 12 राशियों पर होगा। वहीं ज्योतिष के अनुसार यदि ग्रहण और शनि अमावस्या के दौरान कुछ उपाय किए जाएं तो दोनों ही ग्रहों को अनुकूल किया जा सकता है।  आज हम आपको इन उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं।

ग्रहण का समय- आंशिक सूर्य ग्रहण सुबह 10:59 बजे शुरू होगा। पूर्ण सूर्य ग्रहण दोपहर 12:30 बजे से शुरू होगा और अधिकतम ग्रहण दोपहर 01:03 बजे लगेगा। पूर्ण ग्रहण दोपहर 01:33 बजे समाप्त होगा और अंत में आंशिक सूर्य ग्रहण दोपहर 3:07 बजे समाप्त होगा। 

शनि अमावस्या तिथि व समय- अमावस्या तिथि 03 दिसंबर को शाम 04 बजकर 55 मिनट से शुरू होकर, 04 दिसंबर दिन शनिवार को दोपहर 01 बजकर 12 मिनट तक है।

इन चीजों का करें दान (Surya grahan 2021 upaay)- सूर्यग्रहण और शनि अमावस्या के दौरान धन लाभ के लिए के लिए अनाज, शत्रुओं के अंत के लिए काले तिल, विपत्ति से सुरक्षा के लिए छाता और शनि के प्रभाव से मुक्ति के लिए सरसों का तेल दान करना चाहिए। ऐसा करने से दोनों गृह शांत होंगे और आपको बड़ा लाभ होगा।


* शनि अमावस्या के दिन शनि देव का सरसों के तेल और काले तिल से अभिषेक करें। 
* इस दिन शनि मंदिर जाएं और उनके दर्शन कर शनि दोष से मुक्ति की प्रार्थना करें। 
* कहा जाता है शनि अमावस्या और ग्रहण के दिन शनि-दोष से छुटकारा के लिए शमी-पेड़ की पूजा करें।
* आज के दिन ग्रहण समाप्त होने के बाद शाम के वक्त इस पेड़ के नीचे सरसों का दीया जलाएं।
* आज शिव सहस्त्रनाम का पाठ करें, इससे शनि के प्रकोप का भय समाप्त हो जाता है।

इस समय लगेगा पूर्ण सूर्य ग्रहण, खत्म होते ही करें यह एक उपाय

सूर्यग्रहण: इन मंत्रों के जाप से बुरी शक्तियां होंगी नष्ट

4 दिसंबर को है सूर्य ग्रहण, भूल से भी ना करें यह काम

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -