अमेरिकी सैनिको की मौत पर पुतिन दूतावास ने किया बड़ा खुलासा

Jul 04 2020 07:05 PM
अमेरिकी सैनिको की मौत पर पुतिन दूतावास ने किया बड़ा खुलासा

बीते दिनों मारे गए अफगानिस्तान में यूएस और गठबंधन के सैनिकों को तालिबान से जुड़े आतंकवादियों को रशिया की ओर से पैसे दिए जाने के मामले में अब एक नया मोड़ आ गया है। शुक्रवार को यह जानकारी सामने आई थी, कि तालिबान में कांट्रेक्टरों के माध्यम से पैसे का भुगतान किया गया। अब शानिवार को इस मामले में एक नई जानकारी का खुलासा हुआ है। अब रशिया ने इस बात को इस सिरे से खारिज कर दिया कि उन्होंने सैनिकों को मारने के लिए किसी तरह से पैसे का भुगतान किया है। 

वही राष्ट्रपति ब्लीदिमीर पुतिन के विशेष दूत और काबुल में पूर्व राजदूत ज़मीर काबुलोव ने एक टेलीविजन चैनल के कार्यक्रम में कहा है, कि अफगानिस्तान में अमेरिकी सैनिकों को मारने के लिए किसी भी कार्यक्रम पर किसी तरह के कोई हस्ताक्षर नहीं किए गए थे, ये एक कोरी अफवाह फैलाई जा रही है। ऑपरेशन चक्रवात को याद करते हुए उन्होंने कहा, कि साल 1980 के दशक के दौरान अफगानिस्तान में मास्को के दुश्मनों को पकड़ने के लिए सीआईए का गुप्त कार्यक्रम चला था। ज़ुराविलोव ने कहा, कि उस दौरान यूएस ने अरबों डॉलर खर्च किए थे, जिसमे हज़ारो की संख्या में रुसी मारे गए थे.और ये तथ्य उस समय का सबसे बड़ा तथ्य है.

दरअसल बीते एक सप्ताह से अफगानिस्तान में यूएस और गठबंधन के सैनिकों को मारने के लिए तालिबान से जुड़े आतंकवादियों को रशिया की ओर से पैसे दिए जाने की बात सामने आई है। इसी के बाद रोजाना इस पर कोई न कोई बयान आये दिन आ रहा है. वही सोमवार को कहा गया कि इस मामले में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को सूचना दी गई थी, खुफिया अधिकारियों को उनको इसके बारे में लिखित में बताया था, परन्तु फिर डोनाल्ड ट्रम्प ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए बताया, की इस सम्बन्ध में उन्हें किसी तरह की कोई जानकारी प्राप्त नहीं थी. यदि कोई जानकारी देने की बात कह रहा है तो वो झूठ बोल रहा है, ये सिर्फ अफवाह फैलाने का काम है. तथा इस बात को डोनाल्ड ट्रम्प ने स्पष्ट रूप झूठ बता दिया.

पाक में कोरोना का कहर जारी, अब तक 2.25 लाख से अधिक संक्रमित

अमेरिकी सीनेटर बोले- चीन सोचा है, जब भारत-US कमज़ोर होंगे, तो ही वह पॉवरफुल होगा

स्ट्रीट जर्नल ने किया खुलासा, यहां अमेरिका भेज रहा दो नए एयरक्राफ्ट कैरियर