+

रोहित वेमुला मामले पर अपने बयान को लेकर घिरी शिक्षा मंत्री

Feb 27 2016 08:02 AM
रोहित वेमुला मामले पर अपने बयान को लेकर घिरी शिक्षा मंत्री

केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी रोहित वेमुला आत्महत्या मामले पर बयांन देकर विवादों में घिर गयी है. राज्यसभा में शुक्रवार को बसपा प्रमुख मायावती ने रोहित वेमुला आत्महत्या का मामला उठाते हुए शिक्षा मंत्री स्मृति ईरानी के इस्तीफे की मांग की है. मायावती ने कहा की, रोहित के छोटे भाई को कोई सरकारी नौकरी दे देते तो अच्छा होता। उसकी मां दिल्ली सरकार से अपील कर रही है। इस मामले में सीएमओ और पुलिस प्रशासन की भूमिका से भी मैं संतुष्ट नहीं हूं। केंद्रीय सरकार ने मामले की जाँच के लिए जो कमिटी बनाई है उसमे एक भी दलित नहीं है. कमिटी के वीसी और मेम्बर को स्मृति ईरानी द्वारा नियुक्त किया गया है. साथ ही मायावती ने निष्पक्ष जाँच के लिए कमिटी मे दलित प्रोफेसर को भी शामिल करने की बात कही.

हैदराबाद यूनिवर्सिटी के छात्र रोहित वेमुला ने 17 जनवरी कों खुदखुशी कर ली थी. यूनिवर्सिटी द्वारा रोहित और उसके 3 दलित साथियों को हॉस्टल से निकल दिया गया था. इसके बाद स्मृति ईरानी ने पलटवार करते हुए कहा की, आपके द्वारा उस बच्चे को बाचने की कोशिश भी नहीं की गई और मेडिकल सहायता को रोहित तक नहीं पहुचाया गया था. रोहित के शव को लेकर राजनीती की गयी थी. यह तेलंगना पुलिस की रिपोर्ट हैI स्मृति ने मायावती के सवालो का जवाब देते हुए कमिटी मे एक दलित प्रोफेसर होने की बात कही थी. 

स्मृति के इस बयांन के बाद हैदराबाद यूनिवर्सिटी की डॉक्टर ने शिक्षा मंत्री के इस बयांन को पूरी तरह गलत बताया. हैदराबाद यूनिवर्सिटी की ड्यूटी डॉक्टर एस. राजश्री ने बताया की उन्होंने रोहित के शरीर की 15 मिनट तक गहन जाँच की थी. जिसके बाद उसे मृत घोषित किया गया था. जिसकी रोहित के दोस्तों ने भी पुष्टि की है.