एक बार फिर ईरान की राजधानी बगदाद में अमेरिका दूतावास के पास रॉकेट हमला, युद्ध भड़कने की आशंका

एक बार फिर ईरान की राजधानी बगदाद में अमेरिका दूतावास के पास रॉकेट हमला, युद्ध भड़कने की आशंका

बगदाद: इराक की राजधानी बगदाद में एक बार फ‍िर अमेरिकी दूतावास को निशाना बनाते हुए कई रॉकेट दाग दिया है. जंहा इस बात का पता चला है कि अमेरिकी सैन्य सूत्र ने कहा कि इस हमले का मकसद अमेरिकी संपत्ति को क्षति पहुंचाना था. वहीं अभी तक यह स्‍पष्‍ट नहीं हो सकता है कि इसे हमले कितने लोग हताहत हुए हैं.

अक्टूबर, 2019 के बाद से यह 19वां हमला: जानकारी के अनुसार एएफपी के संवाददाताओं ने ग्रीन ज़ोन के पास एयरक्राफ्ट सर्किलिंग के पास कई विस्फोटों को सुना, जहां अमेरिकी मिशन स्थित है. अक्टूबर, 2019 के बाद से यह 19वां हमला था. जंहा इसके पूर्व अमेरिकी दूतावास हमला किया गया था, जहां 5,200 अमेरिकी सैनिकों को निशाना बनाया गया. पिछले महीने में  उत्तरी इराक में हुए ऐसे ही एक हमले में अमेरिकी कॉन्ट्रेक्टर की मौत हो गई थी. वहीं इसके बाद अमेरिका की कार्रवाई में 25 लड़ाके मारे गए थे, जो ईरान के नजदीकी माने जाते हैं.

ईरान के टॉप कमांडर कासिम सुलेमानी को ड्रोन हमले में मार गिराया: वहीं इस बात पर भी गौर किया जा रहा है कि  ईरान और अमेरिका के बीच तनाव उस वक्त बहुत बढ़ गया, जब बीते  शुक्रवार यानी 14 फरवरी 2020 को अमेरिका ने बगदाद में ईरान के टॉप कमांडर कासिम सुलेमानी को ड्रोन हमले में मार गिराया था. सुलेमानी को वहां हवाईअड्डे से बाहर निकलते समय निशाना बना गया था. जंहा अब इस हमले में ईरान के हशद अल-शाबी अर्द्धसैनिक बल के उप प्रमुख और कुछ अन्य ईरान समर्थित स्थानीय मिलिशिया भी मारे गए थे. 62 वर्षीय जनरल सुलेमानी को ईरान के शीर्ष धार्मिक नेता अयातुल्लाह खामेनेयी के बाद ईरान का सबसे ताकतवर शख्सियत माना जाता था. उनके मारे जाने के बाद अमेरिका और ईरान के बीच तनाव काफी बढ़ गया है. कुछ विशेषज्ञों ने तीसरे विश्‍व युद्ध की आशंका जताई थी.

FATF को गुमराह कर रहा पाक, आतंकी मसूद अज़हर को लेकर कहा सबसे बड़ा झूठ

जानकारों की उम्मीद, सफल होगा ट्रंप का भारत दौरा

विदेशी मंत्री जयशंकर का बड़ा बयान, कहा- 'चिंता मत करें, भारत अकेले सुलझा लेगा कश्मीर मसला...'